ताज़ा खबर
 

जल संरक्षण को चुनावी घोषणापत्र में शामिल करें राजनीतिक दल: सीचेवाल

संत बलबीर सिंह सीचेवाल ने कहा, 'प्रदेश के राजनीतिक दलों को आगामी विधानसभा चुनाव में जल एवं पर्यावरण को मुद्दा बना कर चुनाव लड़ना चाहिए और इसलिए उन्हें इन दोनों विषयों को अपने अपने चुनावी घोषणापत्र में शामिल करना चाहिए।’

Author जालंधर | May 23, 2016 1:14 AM
केंद्रीय मंत्री उमा भारती के साथ पर्यावरणविद संत बलबीर सिंह सीचेवाल। (फाइल फोटो)

पंजाब में जल संरक्षण को स्कूली पाठ्यक्रम में शामिल किए जाने की वकालत करते हुए जाने माने पर्यावरणविद संत बलबीर सिंह सीचेवाल ने कहा है कि पंजाब की हवा और पानी को साफ एवं स्वच्छ रखने के लिए सभी राजनीतिक दलों को पर्यावरण एवं जल संरक्षण जैसे मुद्दे को आसन्न विधानसभा चुनाव के लिए अपने चुनावी घोषणापत्र में शामिल करना चाहिए। सीचेवाल ने साक्षात्कार में कहा, ‘पंजाब में हवा और पानी दोनों खराब हो गए हैं। अत्यधिक खाद और यूरिया के इस्तेमाल से मिट्टी भी धीरे-धीरे खराब हो रही है और इसकी उर्वराशक्ति कम हो रही है। अब हमें आगामी पीढी को बचाने के लिए यहां के हवा और पानी को स्वच्छ रखने तथा जल को बचाने की दिशा में ठोस एवं कारगार उपाय करने की जरूरत है।’

पानी बचाने की अपील करते हुए संत ने कहा, ‘आगामी पीढ़ी को तथा पंजाब को बचाने के लिए पर्यावरण और जलसंरक्षण दोनो समय की जरूरत है। प्रदेश के राजनीतिक दलों को आगामी विधानसभा चुनाव में जल एवं पर्यावरण को मुद्दा बना कर चुनाव लड़ना चाहिए और इसलिए उन्हें इन दोनों विषयों को अपने अपने चुनावी घोषणापत्र में शामिल करना चाहिए।’ पर्यावरण के प्रति उदासीन रहने का आरोप राजनीतिक दलों पर लगाते हुए उन्होंने यह भी कहा कि कोई भी राजनीकि दल पर्यावरण एवं जल संरक्षण के प्रति निष्ठावान नहीं है जबकि सचाई यह भी है कि पंजाब में भूजलस्तर काफी नीचे चला गया है और गर्मी की शुरुआत में ही पानी की किल्लत शुरू हो गई है।

HOT DEALS
  • Apple iPhone 7 32 GB Black
    ₹ 41999 MRP ₹ 52370 -20%
    ₹6000 Cashback
  • Coolpad Cool C1 C103 64 GB (Gold)
    ₹ 11290 MRP ₹ 15999 -29%
    ₹1129 Cashback

सीचेवाल ने यह भी दावा किया कि खराब पानी के कारण पंजाब का एक बड़ा हिस्सा कैंसर जैसी बीमारी से ग्रसित है इसलिए यह और भी आवश्यक हो गया है कि इस दिशा में ठोस और कारगर उपाय किया जाए ताकि लोगों को प्रभावित होने से बचाया जा सके। यह पूछने पर कि इस दिशा में कैसे काम किया जा सकता है, सीचेवाल ने कहा, ‘यह काम केवल सरकार नहीं कर सकती है। इसके लिए हम सबको जागरूक होना होगा। हम सब अपने आस-पास के तालाबों, नदियों और नालों की साफ सफाई खुद करें तो बहुत हद तक इससे निजात मिल सकती है।’

सीचेवाल ने कहा, ‘इसके लिए जल संरक्षण, पर्यावरण संरक्षण तथा स्वच्छता को स्कूली पाठ्यक्रम में शामिल किया जाना चाहिए और इस बारे में देश के भावी नागरिकों को विस्तार से बताया, समझाया, जगाया और पढ़ाया जाना चाहिए ताकि उन्हें जल, पर्यावरण एवं साफ-सफाई के प्रति जागरूक और जिम्मेदार नागरिक बनाया जा सके।’ पीढ़ी बचाने के लिए जल और पर्यावरण संरक्षण पर जोर देते हुए सीचेवाल ने कहा, ‘साफ सफाई तथा पर्यावरण संरक्षण अब हमारे लिए समय की जरूरत हो गई है। अपनी आने वाली पीढी को बचाने के लिए हमें इस दिशा में जोर शोर से काम करना शुरू कर देना चाहिए।’

स्वच्छता एवं पर्यावरण संरक्षण को समय की जरूरत बताते हुए सीचेवाल ने कहा, ‘हमें अपने आस-पास के नदियों, नालों, तालाबों को साफ सुथरा रखना चाहिए। समय-समय पर हमें स्वयं उसकी सफाई करनी चाहिए ताकि उसका जरूरत के अनुसार इस्तेमाल किया जा सके।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App