ताज़ा खबर
 

VIDEO: बूंद-बूंद के लिए तरस रहे लोग, जान खतरे में डाल कुएं में उतर यूं भर रहे पानी

एसडीएम ने बताया कि साहापुरा के लोग उनके पास पानी की समस्या लेकर आए थे, जिसके बाद पंचायत को निर्देश दे दिए गए हैं कि साहापुरा में रोजाना पानी के 2 टैंकरों की सप्लाई करायी जाए।

मध्य प्रदेश के डिंडोरी में पानी के लिए जान जोखिम में डाल रहे लोग। (image source-ANI)

पूरी दुनिया में आज पानी की कमी देखी जा रही है। भारत भी पानी के इस संकट से अछूता नहीं है। परेशान करने वाली बात ये है कि जहां अन्य देशों ने पानी को बचाने की दिशा में कदम उठाने शुरु कर दिए हैं, वहीं भारत में अभी इस बारे में सोचा भी नहीं जा रहा है, जिस कारण स्थिति भयावह होती जा रही है। अब मध्य प्रदेश से एक ऐसा वीडियो सामने आया है, जहां लोग पानी लेने के लिए अपनी जान जोखिम में डाल रहे हैं। यह वीडियो मध्य प्रदेश के डिंडोरी जिले का है, जहां के साहापुरा इलाके में लोग पीने के पानी के लिए कुएं में उतरते दिखाई दे रहे हैं। दरअसल कुएं में पानी का स्तर बिल्कुल नीचे जा चुका है, जिस कारण बाल्टी डालकर पानी खींचना मुमकिन नहीं है। यही वजह है कि महिलाएं, बच्चे और पुरुष कुएं में नीचे उतरकर बिल्कुल तल में पहुंच चुके पानी को बाल्टियों में भरकर ऊपर खींचते दिखाई दे रहे हैं।

जब इस स्थिति को लेकर जिले के प्रशासनिक अधिकारियों से बात की गई तो एसडीएम ने बताया कि साहापुरा के लोग उनके पास पानी की समस्या लेकर आए थे, जिसके बाद पंचायत को निर्देश दे दिए गए हैं कि साहापुरा में रोजाना पानी के 2 टैंकरों की सप्लाई करायी जाए। बता दें कि साहापुरा में पानी की स्थिति बेहद खराब है और यहां के लोग लंबे समय से पानी की किल्लत झेल रहे हैं। लोगों का कहना है कि यहां पर पीने के पानी का जरिया सिर्फ यह कुआं ही है, जो कि गांव से 1 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। अब दिनों-दिन कुए के सूखते पानी ने गांव वालों की परेशानी काफी बढ़ा दी है।

बता दें कि पृथ्वी के 70 प्रतिशत हिस्से पर पानी है, लेकिन इसमें से सिर्फ 2 प्रतिशत पानी ही पीने लायक है। भारत में स्थिति और भी ज्यादा खराब है। भारत की जनसंख्या 1.3 बिलियन हो चुकी है और साल 2050 तक इसके 1.7 बिलियन होने की उम्मीद है। वहीं भारत में पीने के पानी का कुल 4 प्रतिशत हिस्सा ही है। हाल ही में दक्षिण अफ्रीका का प्रमुख शहर केपटाउन पानी की इस कमी का शिकार हुआ है, जहां पानी लगभग खत्म हो चुका है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App