ताज़ा खबर
 

VIDEO: PM नरेंद्र मोदी के उद्घाटन से पहले ट्रायल में बेकाबू हुई मेट्रो, देखें कैसे दीवार तोड़ बाहर निकली

25 दिसंबर को मैजेंटा लाइन की शुरुआत होने वाली है। इसी दिन पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का 93वां जन्मदिन है।

दिल्ली में कालिंदी कुंज के पास मंगलवार को मेट्रो हादसे का शिकार हुई। ट्रेन दीवार तोड़कर कुछ तरह क्षतिग्रस्त हुई। (फोटोःएएनआई)

दिल्ली मेट्रो की नई लाइन (मैजेंटा) शुरू होने से पहले इस पर मंगलवार को बड़ा हादसा हुआ। कालिंदी कुंज के पास ट्रायल के दौरान मेट्रो दीवार तोड़कर बाहर निकल गई। गनीमत थी कि कोई भी इस हादसे में कोई हताहत नहीं हुआ। लेकिन ट्रेन के आगे के हिस्से और बाउंड्रीवॉल को इसमें नुकसान पहुंचा है। हादसे के दौरान मेट्रो ट्रेन में ड्राइवर नहीं था। ऐसा इसलिए क्योंकि यह मेट्रो रूट बिना ड्राइवर के संचालित (ड्राइवरलेस) किया जाएगा। शुरुआत में यह हादसा तकनीकी कारणों की वजह से माना जा रहा था। मगर बाद में मेट्रो अपनी गलती स्वीकारी है। कहा है कि यह हादसा मानवीय भूल के कारण हुआ। ऐसे में मेट्रो इसकी जांच कराएगी। आपको बता दें कि 25 दिसंबर को मैजेंटा लाइन की शुरुआत होने वाली है। इसी दिन पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी का 93वां जन्मदिन है। पीएम नरेंद्र मोदी इस मौके पर इस रूट का उद्घाटन करेंगे। वह बॉटनिकल गार्डन मेट्रो से हरी झंडी दिखाकर इस लाइन का श्रीगणेश करेंगे। उद्घाटन समारोह में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी शामिल हो सकते हैं। हादसे के बाद घटना से जुड़ा एक वीडियो भी सामने आया है।

वीडियो में मेट्रो का अगला हिस्सा दीवार तोड़कर बाहर आ चुका दिखता है। आसपास अफरा-तफरी का माहौल होता है। बैकग्राउंड में लोगों के चिल्लाने की आवाजें आ रही होती हैं। हादसे में मेट्रो का अगला हिस्सा क्षतिग्रस्त दिखता है, जो साफ तौर पर वीडियो में देखा जा सकता है। देखिए वीडियो-

13 किमी लंबी इस मेट्रो लाइन नोएडा को दक्षिणी दिल्ली से जोड़ेगी। दिल्ली मेट्रो का यह रूट कालकाजी से बॉटनिकल गार्डन तक होगा। इस लाइन के शुरू होने के बाद नोएडा और दक्षिणी दिल्ली के बीच यात्रा समय में कमी आएगी। मेट्रो रेल सुरक्षा आयुक्त ने पिछले महीने 12.64 किलोमीटर वाले इस सेक्शन को सुरक्षा संबंधी मंजूरी दी थी। यह मार्ग बॉटनिकल गार्डन-जनकपुरी वेस्ट (मैजेंटा) लाइन का हिस्सा है। इस सेक्शन में मेट्रो की नई आधुनिक ट्रेनें चलेंगी, जो कि बिना चालक की मौजूदगी के भी चल सकती हैं।

वहीं, इस मार्ग पर अत्याधुनिक संचार आधारित ट्रेन नियंत्रण (सीबीटीसी) सिग्नल तकनीक भी सेवा में लगाई जाएगी, जिसकी मदद से ट्रेन की आवाजाही 90-100 सेकेंड के भीतर हो सकेगी। हालांकि, शुरुआती दौर में दो-तीन साल तक ट्रेन में चालक होंगे। फिलहाल नोएडा से दक्षिणी दिल्ली के इलाकों में जाने के लिए मंडी हाउस पर मेट्रो बदलकर ब्लू लाइन से वॉयलेट लाइन पर जाना होता है। नए सेक्शन के खुलने के बाद यात्री सीधे वॉयलेट लाइन पर स्थित कालकाजी मंदिर मेट्रो स्टेशन पहुंचेंगे। इसकी वजह से यात्रा समय में 45 मिनट की कमी आएगी। वहीं, बॉटनिकल गार्डन से जनकपुरी वेस्ट (38.23 किलोमीटर) का पूरा कॉरिडोर जब खुल जाएगा तो नोएडा के यात्री हौज खास में ट्रेन बदलकर सीधे गुडगांव जा सकेंगे। दिल्ली के बाहर पहली बार बॉटनिकल गार्डन एक ऐसा मेट्रो स्टेशन होगा, जहां पर मेट्रो की विभिन्न लाइनें आकर मिलेंगी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 गुजरात में अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिन पर शपथ ले सकती है भाजपा की नई सरकार
2 यूपी: पहली बार विधायक बने BSP नेता ने विधानसभा के अनुभव को बताया घटिया, कहा- गैर जरूरी मुद्दों पर होती है घंटों चर्चा
3 टाइगर जिंदा है: राज ठाकरे ने सिनेमा हॉल मालिकों को दी चेतावनी, मराठी फिल्म चलाने का फरमान
यह पढ़ा क्या?
X