ताज़ा खबर
 

दिग्विजय ने पुलवामा हमले को कहा दुर्घटना, बीजेपी के मंत्री ने पूछा- राजीव गांधी की हत्या आतंकी घटना थी या दुर्घटना?

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह द्वारा पुलवामा हमले को दुर्घटना बताए जाने के बाद केंद्रीय मंत्री वीके सिंह ने कहा कि वे बताएं कि राजीव गांधी की हत्या एक दुर्घटना थी या आतंकी घटना?

केंद्रीय मंत्री वीके सिंह फोटो सोर्स- ANI

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और एमपी के पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को हुए आतंकी हमले को दुर्घटना बताकर एक नया विवाद खड़ा कर दिया है। ऐसे में केंद्रीय मंत्री वीके सिंह ने कहा, ‘‘दिग्विजय सिंह बताएं कि राजीव गांधी की हत्या एक आतंकी घटना थी या एक दुर्घटना थी?’’ वहीं, केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने भी दिग्विजय के बयान पर कहा कि कांग्रेस को क्या हो गया है? देश की जनभावना से एकदम उल्टी बात करते हैं।

केंद्र पर लगातार निशाना साध रहे दिग्विजय : भारतीय वायुसेना की एयर स्ट्राइक के बाद दिग्विजय लगातार केंद्र सरकार पर निशाना साध रहे हैं। इसी क्रम में उन्होंने एक ट्वीट करके लिखा, “पुलवामा ‘दुर्घटना’ के बाद हमारी वायु सेना द्वारा की गई Air Strike पर कुछ विदेशी मीडिया में संदेह जता रहे हैं, जिससे हमारी भारत सरकार की विश्वसनीयता पर भी प्रश्न चिह्न लग रहा है।” इसके बाद केंद्रीय मंत्री वीके सिंह ने दिग्विजय पर पलटवार करते हुए कहा, “मैं बड़े सम्मान के साथ दिग्विजय सिंह जी से पूछना चाहता हूं कि क्या राजीव गांधी की हत्या एक आतंकी घटना थी या दुर्घटना थी?”

क्या बोले जावड़ेकर- दिग्विजय के बयान के बाद केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा, “कांग्रेस को क्या हो गया? देश की जनभावना से एकदम उल्टी बात करते हैं, सेना की जानकारी को झुठला रहे हैं। ऐसा किसी लोकतांत्रिक देश में नहीं होता, जहां सेना पर ही अविश्वास दर्शाया जाता है।”

एयर स्ट्राइक पर बोले वीके सिंह : बालाकोट में भारतीय वायुसेना की एयर स्ट्राइक पर वीके सिंह ने कहा कि टारगेट को बहुत ही सावधानीपूर्वक चुना गया था। आम लोगों को नुकसान न पहुंचे इसलिए आवासीय क्षेत्रों से दूर टारगेट को निशाना बनाया गया। हमले में मारे गए आतंकियों की संख्या (250) के सवाल पर उन्होंने कहा कि ये सटीक आंकड़ा नहीं है। संख्या इससे ज्यादा भी हो सकती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App