ताज़ा खबर
 

विवेक तिवारी हत्‍याकांड: पोस्‍टमॉर्टम रिपोर्ट ने खोला राज, प्‍वॉइंट-ब्‍लैंक रेंज से सिर में मारी गई गोली

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि विवेक तिवारी को प्वाइंट ब्लैंक रेंज से गोली मारी गई थी। इस मामले की चश्मदीद और घटना के वक्त विवेक के साथ कार में मौजूद सना ने भी अपने बयान में कहा था कि पुलिसकर्मी ने कार की विंडशील्ड से नजदीक से गोली मारी थी।

आरोपी पुलिसकर्मी ( टीशर्ट में)(express photo)

लखनऊ में पुलिसकर्मियों द्वारा मारे गए एप्पल के एरिया सेल्स मैनेजर विवेक तिवारी की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आ गई है। इस रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि विवेक तिवारी की मौत गोली लगने से हुई थी ना कि रोड एक्सीडेंट में। बता दें कि आरोपी पुलिसकर्मी ने अपने बचाव में दावा किया था कि विवेक तिवारी की मौत उनकी कार के पिलर से टकराने के चलते हुई थी। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि विवेक तिवारी को प्वाइंट ब्लैंक रेंज से गोली मारी गई थी। इस मामले की चश्मदीद और घटना के वक्त विवेक के साथ कार में मौजूद सना ने भी अपने बयान में कहा था कि पुलिसकर्मी ने कार की विंडशील्ड से नजदीक से गोली मारी थी। वहीं आरोपी पुलिसकर्मियों का दावा था कि विवेक ने अपनी कार से उन्हें कुचलने का प्रयास किया था और इसी के चलते उन्होंने आत्मरक्षा में गोली चलायी थी।

इस मामले में पुलिस ने 2 एफआईआर दर्ज की हैं। पहली एफआईआर चश्मदीद सना के बयान के आधार पर दर्ज की गई है। वहीं दूसरी एफआईआर विवेक तिवारी के परिजनों द्वारा दर्ज करायी गई है। फिलहाल इस मामले में आरोपी दोनों पुलिसकर्मियों को बर्खास्त कर दिया गया है। एक स्पेशन इन्वेस्टिगेशन टीम (एसआईटी) गठित कर मामले की जांच शुरु कर दी है। इस मुद्दे की गंभीरता को देखते हुए राज्य सरकार पूरी सावधानी बरत रही है। सोमवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मृतक विवेक तिवारी की पत्नी कल्पना तिवारी और उनकी बेटियों से मुलाकात की। मुख्यमंत्री ने विवेक तिवारी के परिवार को हरसंभव मदद का वादा किया है। फिलहाल सरकार ने पीड़ित परिवार को 25 लाख रुपए बतौर मुआवजा, बेटियों के नाम पर 5-5 लाख रुपए बतौर फिक्स डिपोजिट और विवेक तिवारी की मां को भी 5 लाख रुपए देने का ऐलान किया गया है।

इसके साथ-साथ विवेक तिवारी की पत्नी कल्पना तिवारी को नगर निगम में पीआरओ के पद पर नौकरी देने की पेशकश की है। बता दें कि शुक्रवार की रात विवेक तिवारी ऑफिस में पार्टी होने के चलते अपनी सहकर्मी सना को देर रात उसके घर छोड़ने जा रहे थे। इसी दौरान रात करीब 2 बजे दो पुलिसकर्मियों ने उन्हें रुकने का इशारा किया। बताया जा रहा है कि पुलिसकर्मियों के रुकने के इशारे के बावजूद विवेक तिवारी ने गाड़ी नहीं रोकी और भागने की कोशिश की। इसी हंगामे में पुलिस ने गोली चला दी, गोली लगते ही उनकी गाड़ी रोड पिलर से टकरा गई। बाद में पुलिसकर्मी विवेक को लेकर अस्पताल पहुंचे, जहां इलाज के दौरान विवेक ने दम तोड़ दिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App