ताज़ा खबर
 

वीजा उल्लंघन में सजा काटने के बाद पाक नागारिक को वापस भेजा

पाकिस्तानी नागरिक को जारी किए गए वीजा के नियम खिलाफ मेरठ जाने पर उसे गिरफ्तार किया था। अब सजा काटने के बाद उस नागरिक को मुजफ्फरनगर पुलिस ने भारत-पाक सीमा के अटारी बार्डर पर बुधवार को पाकिस्तान पुलिस के हवाले कर दिया।

Author मेरठ | July 21, 2016 12:06 AM
(चित्र का इस्तेमाल सिर्फ प्रतीक के तौर पर किया गया है।)

पाकिस्तानी नागरिक को जारी किए गए वीजा के नियम खिलाफ मेरठ जाने पर उसे गिरफ्तार किया था। अब सजा काटने के बाद उस नागरिक को मुजफ्फरनगर पुलिस ने भारत-पाक सीमा के अटारी बार्डर पर बुधवार को पाकिस्तान पुलिस के हवाले कर दिया। वैसे तो हजारों की तादाद में पाकिस्तानी नागरिक पश्चिमी उत्तर प्रदेश में वीजा की अवधि पूरी होने के बाद भी यहां जमे हुए हैं। जिस पाकिस्तानी नागरिक को मेरठ पुलिस ने शहर के प्रमुख बाजार आबूलेन से पकड़ा था। पुलिस की गई जांच के दौरान उसने पाकिस्तान होने की बात कही थी। इसके बाद उसके कागजों की जांच-पड़ताल करने के बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया।

पाकिस्तान में पंजाब प्रदेश के जनपद मुल्तान के गांव सिकंदराबाद जक्कड़ बस्ती में रहने वाले सईद की मुजफ्फरनगर के रतनपुरी थाना क्षेत्र के गांव रियावली नंगला में करीबी रिश्तेदारी है। सईद 2015 दिसंबर में अटारी बॉर्डर से होता हुआ भारत आया था। 26 दिसंबर को सईद अपने मामा के बेटे इकबाल के साथ मोटरसाइकिल के जरिए मुजफ्फरनगर से मेरठ आया था। खरीदारी करने के बाद जब वो यहां घूम रहा था उसी दौरान थाना सदर पुलिस के जरिए चेकिंग अभियान चलाया जा रहा था तभी पुलिस ने इकबाल और सईद को रोक कर कागजात दिखाने को कहा।

इसी दौरान सईद ने कहा कि मुझे तो छोड़ दो मैं तो पाकिस्तानी हूं। यह सुन कर मेरठ पुलिस ने गहन जांच शुरू की। जिसके बाद उसका वीजा देखने पर पता चला कि जारी किया गया वीजा केवल मुजफ्फरनगर का है। जबकि वह मेरठ में घूम रहा था। जिसके बाद पुलिस ने उसे वीजा के निमयविरूद्ध घूमने के आरोप में अदालत में पेश किया गया।जहां से उसे जेल भेज दिया गया। दो जुलाई को उसकी सजा की अवधि पूरी हो गई थी, लेकिन अदालत ने उस पर 2000 रुपए का अर्थदंड भी लगाया था। जिसकों अदा न कर पाने की वजह से सजा की अवधि 18 जुलाई तक बढ़ा दी गई। जिसके बाद मेरठ पुलिस ने उसे मुजफ्फरनगर पुलिस को सौंप दिया।

मुजफ्फरनगर पुलिस सईद को पाकिस्तान की सीमा पर छोड़ कर लौट आई है। आइजी जोन सुजीत पांडे का कहना है कि जांच एजंसियों में सामने आया है कि सईद बिना वीजा के मेरठ में घूम रहा था। उसका कोई दूसरा मकसद नहीं था। ऐसे में बिना वीजा के घूमने की सजा पूरी होने के बाद उसे पाकिस्तान बॉर्डर पर कड़ी सुरक्षा में ले जाकर छोड़ दिया गया। पाकिस्तानी वीजा लेकर भारत के विभन्न प्रदेशों में घूमते रहते है। इन लोगों में वीजा नियमों का उल्लंघन का मामला दर्ज किया जाता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X