ताज़ा खबर
 

Lok Sabha Election 2019: कानपुर में ग्रामीणों ने किया चुनाव का बहिष्कार, ‘रोड नहीं तो वोट नहीं’ के लगाए स्लोगन’

Lok Sabha Election 2019 (लोकसभा चुनाव 2019): ग्रामीणों का आरोप है कि 2014 लोकसभा चुनाव जीतने के बाद बीजेपी सांसद अंजू बाला उनके गांव में कभी नहीं आईं। ग्रामीणों ने उनसे सड़क, बिजली और पानी के लिए गुहार लगाई तो उन्होंने सिर्फ आश्वासन ही दिया गया।

नो रोड नो वोट (फोटो सोर्स : स्थानीय)

Lok Sabha Election 2019: कानपुर के महदेव गांव में ग्रामीण 2019 लोकसभा चुनाव का बहिष्कार कर रहे हैं। इस दौरान उन्होंने ढोलक-मंजीरे और हाथों में बैनर लेकर विरोध जताया। इन बैनर पर लिखा था, ‘‘रोड नहीं तो वोट नहीं। किसी भी दल के नेता का गांव में आना सख्त मना है। दरअसल यह गांव मिश्रिख लोकसभा सीट में आता है, जहां सड़क, बिजली, पानी की समस्या बरकरार है। बीजेपी सांसद बीजेपी अंजू बाला चुनाव जीतने के बाद इस गांव में कभी नहीं आईं। बता दें कि स्थानीय विधायक और सांसद दोनों ही बीजेपी के हैं। इसके बाद भी गांव में विकास नहीं हुआ।  

5 साल में नहीं हुआ एक भी काम : महदेवा गांव बिल्हौर विधानसभा सीट में आता है, जो मिश्रिख लोकसभा के अंतर्गत है। इस गांव में करीब 500 वोटर हैं। ग्रामीणों का आरोप है कि 2014 लोकसभा चुनाव जीतने के बाद बीजेपी सांसद अंजू बाला उनके गांव में कभी नहीं आईं। ग्रामीणों ने उनसे सड़क, बिजली और पानी के लिए गुहार लगाई तो उन्होंने सिर्फ आश्वासन ही दिया। पूरा कार्यकाल बीतने के बाद भी उन्होंने गांव एक रुपए का विकास कार्य नहीं कराया। बिल्हौर से बीजेपी विधायक भगवती प्रसाद सागर भी उदासीन रवैया अपनाए हुए हैं।

National Hindi News, 15 April 2019 LIVE Updates:पढ़ें आज की बड़ी खबरें

यादव बहुल है यह गांव : दिव्यांग घनश्याम के मुताबिक, यह गांव यादव बहुल है। यहां यादव, क्षत्रिय और एससी जाति के लोग रहते हैं। आरोप है कि यादव बहुल होने की वजह से बीजेपी के नेता गांव में विकास कार्य नहीं कराना चाहते हैं। उनका मानना है कि गांव में कितना भी विकास कार्य करा दो, लेकिन इनका वोट सपा को ही जाना है।

सड़क और खड़ंजा तक नहीं : ग्राम प्रधान सर्वेश यादव के मुताबिक, गांव में सड़क और खड़ंजा तक नहीं है। गांव को मुख्य मार्ग से जोड़ने वाली सड़क का निर्माण भी अब तक नहीं हुआ है। बारिश के दिनों में कीचड़ और जलभराव की वजह से पूरा गांव घरों में कैद हो जाता है।

पूरे गांव ने मिलकर लिया फैसला : जानकारी के मुताबिक, गांव के सभी लोग एक साथ बैठे और उन्होंने फैसला किया कि 2019 लोकसभा चुनाव का बहिष्कार करेंगे। इसके बाद गांव की मुख्य सड़क पर एक बैनर लगाया गया, जिस पर लिखा है कि किसी भी दल के नेता का गांव में आना वर्जित है।

 

ये उम्मीदवार हैं मैदान में : बीजेपी ने मिश्रिख लोकसभा सीट से अंजू बाला का टिकट काटते हुए अशोक रावत को कैंडिडेट बनाया है। वहीं, बीएसपी ने नीलू सत्यार्थी को मैदान में उतारा है। कांग्रेस ने मंजरी राही तो प्रसपा की अरुणा कोरी पर दांव खेला है।

Read here the latest Lok Sabha Election 2019 News, Live coverage and full election schedule for India General Election 2019

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App