ताज़ा खबर
 

आदमखोर तेंदुए को मारने के लिए बंदूक लेकर पहुंच गए महाराष्ट्र के मंत्री, वायरल हुआ वीडियो

यह पहली बार नहीं है, जब महाजन विवादों में फंसे हों। कुछ साल पहले वह शारीरिक रूप से अक्षम स्कूली बच्चों के कार्यक्रम में रिवॉल्वर लेकर पहुंच गए थे।

महाराष्ट्र के जल संसाधन मंत्री गिरीश महाजन।

आदमखोर तेंदुए के शिकार पर निकले महाराष्ट्र के जल संसाधन मंत्री गिरीश दत्तात्रेय महाजन का वीडियो वायरल होने के बाद वह चर्चा में हैं। इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक वॉट्सएप पर वायरल हुए वीडियो में दिख रहा है कि मंत्री के हाथ में पिस्तौल है और वह उस टीम का हिस्सा हैं, जो आदमखोर तेंदुए को मारने निकली है। तेंदुए के कारण उत्तरी महाराष्ट्र के जलगांव जिले के चालिसगांव इलाके में खौफ का माहौल है। गांववालों का दावा है कि पिछले चार महीनों में तेंदुआ 3 लोगों को अपना शिकार बना चुका है। इसके बाद वन विभाग ने इस जानवर को मारने के आदेश जारी किए हैं। यह इलाका महाजन के क्षेत्र में आता है। सूचना मिलने के बाद महाजन हाथ में रिवॉल्वर लेकर वन विभाग के अफसरों के साथ नरभक्षी तेंदुए का शिकार करने निकल पड़े। घटना सोमवार की है। इस बारे में महाजन ने कहा कि वह इलाके के दौरे पर थे और जब उन्हें तेंदुए की जानकारी मिली तो उन्होंने वहां जाने का फैसला किया।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक तेंदुआ बच निकलने में कामयाब रहा और महाजन समेत वन विभाग की टीम को खाली हाथ लौटना पड़ा। इस मामले पर एनसीपी के नेता नवाब मलिक ने कहा कि वन्य कानूनों के नियमों का उल्लंघन करने पर उन्हें तुरंत गिरफ्तार किया जाना चाहिए। उन्हें तुरंत सस्पेंड कर उनके खिलाफ मुकदमा दायर होना चाहिए। उन्होंने कहा, अगर सरकार एेसा नहीं करती तो हम इस मामले को संबंधित प्रशासन के सामने उठाएंगे। यह पहली बार नहीं है, जब महाजन विवादों में फंसे हों। कुछ साल पहले वह शारीरिक रूप से अक्षम स्कूली बच्चों के कार्यक्रम में रिवॉल्वर लेकर पहुंच गए थे।

इससे पहले महाजन ने महिलाओं को लेकर विवादित बयान दिया था। उन्होंने कहा था, “अगर शराब की मांग बढ़ानी है, तो उसका नाम महिलाओं के नाम पर रखा जाना चाहिए।” उन्होंने कहा था, “अगर आप अपनी शराब का नाम महाराजा रखेंगे, तो उसे कौन खरीदेगा। अगर आप महारानी का इस्तेमाल करेंगे, फिर देखिए। शराब के नाम आमतौर पर बॉबी और जूली होते हैं। यही तरीका होता है, इनकी मार्केटिंग का।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App