ताज़ा खबर
 

उपराष्ट्रपति की ब्रुनेई और थाईलैंड यात्रा आज से

उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ब्रुनेई और थाईलैंड की पांच दिवसीय यात्रा पर सोमवार को रवाना होंगे। इस यात्रा का मकसद ‘एक्ट ईस्ट’ नीति के तहत इन दोनों दक्षिण पूर्वी एशियाई देशों के साथ भारत के द्विपक्षीय संबंधों को आगे बढ़ाना है।

Author नई दिल्ली | February 1, 2016 2:56 AM
उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी

उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ब्रुनेई और थाईलैंड की पांच दिवसीय यात्रा पर सोमवार को रवाना होंगे। इस यात्रा का मकसद ‘एक्ट ईस्ट’ नीति के तहत इन दोनों दक्षिण पूर्वी एशियाई देशों के साथ भारत के द्विपक्षीय संबंधों को आगे बढ़ाना है। वे युवराज हाजी अल मुहतादी बिल्लाह के निमंत्रण पर पहले ब्रुनेई जाएंगे। ब्रुनेई के साथ मई 1984 में राजनयिक संबंध स्थापित होने के बाद से, यह वहां भारत की ओर से पहली उच्च स्तर की यात्रा है।

अंसारी का नवंबर में भी दो देशों की यात्रा के तहत ब्रुनेई जाने का कार्यक्रम था। लेकिन उन्हें इंडोनेशिया से ही वापस लौटना पड़ा था जहां ज्वालामुखी विस्फोट हो गया था। इस यात्रा में गृह राज्य मंत्री हरिभाई पारथीभाई चौधरी, चार सांसद और वरिष्ठ अधिकारी भी उपराष्ट्रपति के साथ जाएंगे। अंसारी नागर विमानन, अंतरिक्ष, व्यापार, निवेश, हाइड्रोकार्बन, सूचना और संचार समेत द्विपक्षीय और बहुपक्षीय महत्ता के मामलों पर सुल्तान हस्सनल बोल्किया और बिल्लाह के साथ वार्ता करेंगे।

HOT DEALS
  • Sony Xperia L2 32 GB (Gold)
    ₹ 14845 MRP ₹ 20990 -29%
    ₹0 Cashback
  • Lenovo K8 Plus 32GB Venom Black
    ₹ 9597 MRP ₹ 10999 -13%
    ₹480 Cashback

आसियान और पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन और अन्य बहुपक्षीय मंचों पर सहयोग का मामला भी वार्ता के एजंडे में शामिल होगा। इस दौरान स्वास्थ्य और रक्षा सहयोग संबंधी दो समझौता पत्रों पर भी हस्ताक्षर किए जाएंगे। अंसारी यूनीवर्सिटी आॅफ ब्रुनेई दारुस्सलाम में भाषण देंगे और एक स्वागत समारोह में भारतीय समुदाय को संबोधित करेंगे। ब्रुनेई आसियान में भारत का एक महत्त्वपूर्ण साझीदार है और ऊर्जा सुरक्षा के क्षेत्र में योगदान देने के अलावा वह 10 हजार की संख्या वाले एक मजबूत भारतीय समुदाय की मेजबानी करता है।

अंसारी तीन फरवरी को थाईलैंड के प्रधानमंत्री प्रयुत चान ओ चा के निमंत्रण पर वहां जाएंगे। यह 50 साल के अंतराल के बाद किसी भारतीय उपराष्ट्रपति की थाईलैंड की पहली यात्रा होगी। अंसारी थाईलैंड में चान ओ चा के साथ वार्ता करेंगे और राजकुमारी माहा चाकरी सिरीन्धोर्न के साथ औपचारिक मुलाकात करेंगे। वे लुक ईस्ट से एक्ट ईस्ट तक भारत की थाईलैंड और आसियान के साथ भागीदारी के विषय पर बैंकॉक में चुलालोंगकॉर्न यूनीवर्सिटी में भाषण देंगे। वो थाईलैंड में भारतीय राजदूत की मेजबानी में एक स्वागत समारोह में भारतीय समारोह को संबोधित करेंगे।

थाईलैंड के साथ भारत के संबंध आसियान के साथ उसकी रणनीतिक साझीदारी का महत्त्वपूर्ण और अहम हिस्सा हैं। दोनों देशों को करीब लाने में भारत की ‘एक्ट ईस्ट’ नीति थाईलैंड की ‘लुक वेस्ट’ नीति की पूरक है।
भारत और ब्रुनेई के बीच सहस्राब्दी पुराना ऐतिहासिक, सांस्कृतिक और पारंपरिक संबंध है। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने 11वें आसियान भारत शिखर सम्मेलन और ईस्ट एशिया शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए 2013 में ब्रुनेई की यात्रा की थी। बु्रनेई के सुल्तान ने सितंबर 1992 में राजकीय यात्रा की थी और ब्रुनेई में 1993 में भारतीय निवासी ने राजयिक अभियान शुरू किया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App