ताज़ा खबर
 

वाइस एडमिरल लूथरा बने पश्चिमी नौसेना कमान के प्रमुख

वाइस एडमिरल गिरीश लूथरा ने पश्चिमी नौसेना कमान के फ्लैग आॅफिसर कमांडिंग इन चीफ (एफओसी इन सी) के तौर पर सोमवार को जिम्मेदारी संभाल ली।

मुंबई | May 30, 2016 11:00 PM
नौसेना के जहाज

वाइस एडमिरल गिरीश लूथरा ने पश्चिमी नौसेना कमान के फ्लैग आॅफिसर कमांडिंग इन चीफ (एफओसी इन सी) के तौर पर सोमवार को जिम्मेदारी संभाल ली। इससे पहले सुनील लांबा यह पदभार संभाल रहे थे। वाइस एडमिरल लांबा ने सुबह यहां एक औपचारिक परेड में लूथरा को कमान की जिम्मेदारी सौंपी। लांबा चीफ आॅफ नेवल स्टाफ के रूप में कार्यभार ग्रहण करने के लिए मंगलवार को नई दिल्ली जाएंगे। लांबा ने कमान के अधिकारियों व जवानों से कहा कि समुद्री पर्यावरण की रक्षा करना प्राथमिकता की सूची में शीर्ष पर है।

उन्होंने कहा कि कमान के सभी सदस्यों के पेशेवर व पूरे मन से किए गए प्रयासों की बदौलत कमान के नेतृत्व का यह बड़ा काम पूरा करना संभव हो सका। लांबा ने कहा कि इस बात की जरूरत है कि नौसेना के सभी जवान होशियारी से काम करें क्योंकि श्रम शक्ति की कमी है और आगामी कुछ सालों तक ऐसी ही स्थिति बने रहने की संभावना है। उन्होंने कहा कि उन्होंने अपने कार्यकाल में सभी समुद्री समुदायों के जीवन में सुधार पर ध्यान केंद्रित किया।

वाइस एडमिरल लूथरा पश्चिमी कमान के फ्लैग आॅफिसर कमांडिंग इन चीफ के रूप में कार्यभार संभालने से पहले दक्षिणी नौसेना कमान के फ्लैग आॅफिसर कमांडिंग इन चीफ थे। लूथरा भारतीय नौसेना में जुलाई 1979 में शामिल हुए थे। वह पुणे स्थित राष्ट्रीय रक्षा अकादमी, वेलिंगटन स्थित डिफेंस सर्विसेज स्टाफ कॉलेज और अमेरिका के नेवल कमांड नेवल वार कॉलेज के छात्र रहे हैं। उन्होंने लंदन में भारत के उच्चायुक्त के उप नौसेना सहचारी, नौसेना स्टाफ के सहायक प्रमुख (नीति व योजना), नौसेना अभियानों के महानिदेशक व एकीकृत रक्षा स्टाफ के उपप्रमुख (अभियान) समेत कई महत्त्वपूर्ण जिम्मेदारियां निभाईं। लूथरा को 2012 में अति विशिष्ट सेवा पदक और 2008 में विशिष्ट सेवा पदक से सम्मानित किया गया था।

Next Stories
1 अमिताभ बच्चन बोले- बेटी बचाओ कार्यक्रम का हिस्सा बनना मेरे लिए गर्व की बात
2 राज्यसभा चुनाव: शिवसेना ने कहा- कांग्रेस ने चिदंबरम को महाराष्ट्र से खड़ा करके पाप किया है
3 मेडिकल कॉलेज में नहीं मिला था आरक्षण, बॉम्बे हाईकोर्ट से मिली राहत, कहा- उपनाम बदलने से जाति नहीं बदल जाती
ये पढ़ा क्या?
X