ताज़ा खबर
 

VHP की नेता साध्वी प्राची ने जबरन निकाली तिरंगा यात्रा, योगी की पुलिस से बोलीं- कासगंज न आएं तो क्या पाकिस्तान जाएं?

विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) की नेता साध्वी प्राची ने शनिवार को 26 जनवरी के मौके पर कासगंज में जबरन तिरंगा यात्रा निकाली। इस दौरान विवाद की आशंका के चलते पुलिसकर्मियों ने उन्हें रोकने की कोशिश की तो साध्वी प्राची ने जमकर बहस की।

Author January 27, 2019 10:53 AM
साध्वी प्राची। फोटो सोर्स : इंडियन एक्सप्रेस

विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) की नेता साध्वी प्राची ने शनिवार को 26 जनवरी के मौके पर कासगंज में जबरन तिरंगा यात्रा निकाली। इस दौरान विवाद की आशंका के चलते पुलिसकर्मियों ने उन्हें रोकने की कोशिश की तो साध्वी प्राची ने जमकर बहस की। साथ ही, योगी की पुलिस को उल्टा-सीधा कहते हुए रैली निकाली।

इस वजह से रोक रही थी पुलिस : कासगंज में पिछले साल 26 जनवरी के दिन तिरंगा यात्रा के दौरान हिंसा भड़क गई थी। उस दौरान चंदन कुमार नाम के एक युवक की हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने इस मामले में 121 से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया था। वहीं, 8 केस भी दर्ज किए थे।

पिछले साल से लिया सबक : पिछले साल हुई घटना को देखते हुए इस बार पुलिस काफी सक्रिय रही। पुलिस टीम ने कासगंज में 25 जनवरी को भी फ्लैग मार्च किया। इसके लिए दूसरे जिलों से 250 जवानों को बुलाया गया था।

यह कहा साध्वी प्राची ने : साध्वी प्राची ने 26 जनवरी पर कासगंज में 300 मीटर लंबी तिरंगा यात्रा निकाली। इस दौरान पुलिस ने उन्हें समझाने की कोशिश की तो वे भड़क गईं। उन्होंने पुलिसकर्मियों से कहा, ‘‘तिरंगा यात्रा कासगंज में नहीं निकालें तो क्या पाकिस्तान जाएं?’’

चंदन गुप्ता के नाम पर चौक : 26 जनवरी 2018 को हिंसा में मारे गए चंदन गुप्ता के नाम पर कासगंज प्रशासन ने एक चौक बनाने का फैसला किया है। वहीं, चंदन के परिवार में किसी एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने का भी ऐलान किया गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 VIDEO : अफसरों पर बरसे आकाश विजयवर्गीय, बोले- पूछकर रखें कार्यक्रम, वरना समझ जाना क्या होगा?
2 आंध्र प्रदेश: बेटे की कब्र के पास 38 दिन बैठा रहा पिता, उम्‍मीद थी कि जिंदा लौट आएगा
3 Padma Bhushan : केरल के पूर्व डीजीपी का सवाल- नांबी को क्यों दे रहे सम्मान, उन्होंने देश के लिए किया ही क्या?