ताज़ा खबर
 

बंगाल में राम मंदिर के लिए चंदा देने वालों का चुनाव में करेंगे इस्तेमाल- वीएचपी नेता का ऐलान

तृणमूल कांग्रेस की जलपाईगुड़ी जिले के प्रमुख केके कल्याणी ने कहा, "जैसे की उम्मीद थी, भगवा इकोसिस्टम ने राजनीतिक फायदों के लिए धर्म का कार्ड खेलने की कोशिशें शुरू कर दी हैं।"

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र कोलकाता | Updated: January 16, 2021 12:25 PM
VHP, Ayodhya, Ram Mandirविश्व हिंदू परिषद ने राम जन्मभूमि के लिए चंदा जुटाने का अभियान शुरू कर दिया है। (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

राम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण कार्य के लिए विश्व हिंदू परिषद और राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने शुक्रवार से ही चंदा जुटाने का काम शुरू कर दिया है। इस अभियान के तहत संघ परिवार से जुड़े कार्यकर्ता देशभर में लोगों से मंदिर निर्माण के लिए सहयोग मांगेंगे। हालांकि, पश्चिम बंगाल के लिए इन कार्यकर्ताओं की मंशा थोड़ी अलग है। बंगाल में इस दान अभियान के जरिए संघ राज्य में अपने समर्थकों को पहचानने की कोशिश भी करेगा। साथ ही इसके जरिए हर घर तक भाजपा की पहुंच बनाने की कोशिश की जाएगी।

विश्व हिंदू परिषद के अंदरूनी सूत्रों ने द टेलिग्राफ अखबार को इसकी जानकारी दी है। वीएचपी के जलपाईगुड़ी के प्रवक्ता कृष्णेंदु गुहा ने तो साफ तौर पर कहा कि बंगाल में चंदा जुटाने का कार्यक्रम बाकी देश से अलग होगा। यहां चुनाव आने के साथ ही अभियान के दौरान वे दानकर्ताओं की आधारभूत जानकारी भी जुटाएंगे। शुक्रवार को वीएचपी और भाजपा के कई कार्यकर्ता घरों में जाकर 10, 100 और 1000 रुपए के कूपन देकर चंदा इकट्ठा करते दिखाई दिए। इन सभी को निर्देश दिए गए थे कि वे गांव और म्यूनिसिपल वॉर्ड्स से दानकर्ताओं की जानकारियां भी जुटाएं।

वीएचपी और भाजपा के सूत्रों के मुताबिक, राज्य में यह अभियान 28 फरवरी तक चलेगा और यह एक तरह से राज्य में भाजपा के समर्थकों का पता लगाने के सर्वे के तौर पर काम आएगा। क्योंकि यह काफी मुश्किल है कि चंदा देने वाला कोई व्यक्ति और उसका परिवार आगामी चुनाव में हमारा समर्थन नही करेगा। सूत्र ने बताया कि यह डेटा न सिर्फ परिवार के सीटों के हिसाब से सपोर्ट बेस की बात को स्पष्ट करेगा, बल्कि इससे पार्टी को चुनाव से पहले प्रचार कार्यक्रम तय करने में भी मदद मिलेगी।

एक सूत्र ने बताया कि कार्यकर्ताओं से मिली जानकारी के बाद हर एक क्षेत्र के लिए अलग प्रचार नीति तय की जाएगी। इस डेटा के जरिए चुनाव से पहले समर्थकों के साथ उनके मोबाइल नंबर के जरिए संपर्क में रहना आसान हो जाएगा। हालांकि, संघ परिवार और भाजपा के इस कदम पर तृणमूल कांग्रेस ने हमला बोला है।

तृणमूल कांग्रेस की जलपाईगुड़ी जिले के प्रमुख केके कल्याणी ने कहा, “जैसे की उम्मीद थी, भगवा इकोसिस्टम ने राजनीतिक फायदों के लिए धर्म का कार्ड खेलने की कोशिशें शुरू कर दी हैं। पर यह साजिशें यहां काम नहीं आएंगी। लोग मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की सभी को साथ लेकर चलने वाली सोच और विकास कार्यों की वजह से तृणमूल कांग्रेस को ही चुनेंगे।” हालांकि, कल्याणी ने साफ किया कि वे राम मंदिर के लिए चलाए जा रहे चंदा अभियान पर नजर रखेंगे, ताकि सुनिश्चित किया जा सके कि इससे कोई शांतिभंग नहीं हो रहा है।

Next Stories
1 पुलिस कह रही कॉमेडियन मुनव्वर फारूकी के खिलाफ कोई सबूत नहीं, फिर भी हैं जेल में बंद, बीजेपी MLA के बेटे ने की है शिकायत
2 TRP घोटाला: मुंबई पुलिस का दावा- अर्नब गोस्वामी ने BARC सीईओ को दी थी घूस, PMO और राज्यवर्धन राठौड़ भी सवालों के घेरे में
3 युवक ने खुद की जान गंवा कर नौ लोगों की जान बचाई
ये पढ़ा क्या?
X