venkaiah naidu Defend of amit shah - Jansatta
ताज़ा खबर
 

उपराष्ट्रपति ने बीजेपी अध्यक्ष का किया बचाव, बोले- पूर्व पीएम पर अमित शाह की टिप्पणी असंसदीय नहीं

राज्यसभा के सभापति एम वैंकेया नायडू ने संसद के वर्तमान मानसून सत्र में राज्यसभा की कार्यवाही सुचारु रूप से चलने पर आज खुशी जाहिर की और इसमें उत्कृष्ट सांसद सम्मान से नवाजे गये नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद तथा नेता सदन अरुण जेटली के सकारात्मक योगदान की सराहना की।

Author नई दिल्ली | August 2, 2018 5:12 PM
उपराष्ट्रपति एम वैंकेया नायडू राज्य सभा की कार्यवाही के दौरान। फोटो- पीटीआई

राज्यसभा के सभापति एम वैंकेया नायडू ने आज व्यवस्था दी कि असम में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) के मुद्दे पर मंगलवार को उच्च सदन में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के संबोधन में पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के बारे में असंसदीय भाषा के प्रयोग नहीं किया गया। कांग्रेस के आनंद शर्मा ने गत मंगलवार को नियम 235 के तहत सभापति के समक्ष व्यवस्था का प्रश्न उठाते हुये कहा था कि शाह के वक्तव्य में असंसदीय भाषा का इस्तेमाल किये जाने के चलते इसे सदन की कार्यवाही से हटाया जाए। उन्होंने कहा था कि शाह को इसके लिए माफी मांगनी चाहिए। नायडू ने आज सदन की बैठक शुरु होने पर बताया कि उन्होंने शाह के वक्तव्य को पूरी तरह सुना। शाह ने अपने बयान में कहीं भी असंसदीय शब्द या अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल नहीं किया है।

उल्लेखनीय है कि मंगलवार को एनआरसी के मुद्दे पर राज्यसभा में चर्चा के दौरान शाह ने असम में एनआरसी को 1985 में तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी द्वारा हस्ताक्षरित असम समझौते की उपज बताया था। उन्होंने एनआरसी में देरी के लिये कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया था। इस पर सदन में कांग्रेस सहित विपक्षी सदस्यों ने सदन में जमकर हंगामा किया। इसकी वजह से शाह अपना वक्तव्य पूरा नहीं कर पाये।

नायडू ने शाह के वक्तव्य में आपत्तिजनक असंसदीय शब्द नहीं पाये जाने के आधार पर शर्मा द्वारा उठाये गये व्यवस्था के प्रश्न को निस्तारित कर दिया। नायडू ने कहा ‘‘मैंने रिकॉर्ड को देखा और यह पाया कि शाह ने अपने वक्तव्य में राजीव गांधी के अलावा किसी अन्य प्रधानमंत्री का जिक्र नहीं किया था। जो कुछ भी शाह ने कहा था वह तथ्य का विषय था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App