ताज़ा खबर
 

ऐसा भारत हो, जिसमें गरीबों की विजय हो : वरुण गांधी

वरुण ने युवाओं से अच्छा इंसान बनने की अपील की है और सीख दी कि यदि वे तेजी से बढ़ना चाहते हैं तो उन्हें अकेले चलना होगा और यदि दूर तक जाना चाहते हैं तो मिल कर साथ चलना होगा।

Author अलीगढ़ | September 8, 2016 05:30 am
भाजपा सांसद वरुण गांधी।

बीजेपी नेता और सांसद वरुण गांधी का कहना है कि वे ऐसा हिंदुस्तान चाहते हैं, जिसमें लोग भी कमाएं और गरीबों की विजय हो। उनका भी भला हो। उन्होंने युवाओं से अच्छा इंसान बनने की अपील की है और सीख दी कि यदि वे तेजी से बढ़ना चाहते हैं तो उन्हें अकेले चलना होगा और यदि दूर तक जाना चाहते हैं तो मिल कर साथ चलना होगा। सांसद गांधी ने अलीगढ़ में मंगलायतन विश्वविद्यालय में राष्ट्र-निर्माण की नई सोच विषय पर व्याख्यान देते हुए यह बात कही। उन्होंने बताया कि वह अफ्रीका में जाकर वहां के राष्ट्रपति मंडेला से मिले थे और उनसे अच्छा इंसान बनने के बारे में सवाल किया तो उन्होंने यही सीख दी थी। उन्होंने युवाओं से साथ मिल कर चलने की सोच बनाने की अपील तो की ही साथ ही उन्हें लखनऊ में दुर्गेश नंदन और सीतापुर की नाजिया अग्रवाल के इस दिशा में किए गए प्रयासों से भी अवगत कराया।

उन्होंने कहा कि श्री नंदन ने रिक्शा चलाने वालों को एडवरटाइज के जरिए रिक्शा मालिक बनाने और नाजिया ने हुनरमंद महिलाओं का ग्रुप बना कर उनकी आय बढ़ाने का सराहनीय कार्य किया है। शिक्षा के मंदिर में अपने व्याख्यान में वरुण गांधी ने देश में शिक्षा पर कम खर्च हो रही मार्जिन मनी पर चिंता जताई और शिक्षा में सुधार के लिए तीन सुझाव भी दिए। उन्होंने कहा कि देश में हर न्याय पंचायत स्तर पर एक बड़ा स्कूल बनना चाहिए और न्याय पंचायत से जुड़े सभी गांवों के बच्चों को स्कूल जाने को वाहन मिलने चाहिए। देश में एक ही शिक्षा बोर्ड होना चाहिए और अध्यापकों की कमी पूरी करने के लिए देश के सभी स्नातकों को 200 घंटे स्थानीय स्कूलों में पढ़ाने की व्यवस्था होनी चाहिए।

सांसद गांधी ने देश में राजनीति पर गहरी चोट की। चुनावी खर्च पर अटलजी के हवाले से कहा कि यहां नेता अपना चुनाव झूठ से जीत कर आते हैं। चुनाव में उन्होंने नॉर्वे की ईमानदारी और अर्जेंटीना की डिवेट का अनुसरण करने की भी अपील की और युवाओं का आव्हान किया कि वह ही राजनीति में ऐसी क्रांति ला सकते हैं। अलबत्ता उन्होंने खाद्य सुरक्षा की प्रसंशा की और कहा कि हमारे देश में खाने की कमी नहीं है, जिस दिन हुई तो हम सचमुच अपने घुटनों पर आ जाएंगे। इससे पूर्व मंगलायतन विश्वविद्यालय के स्वप्निल जैन ने वरुण गांधी का स्वागत किया। इस अवसर पर विश्वविद्यालय के चांसलर गोपालदास नीरज, वाइस चांसलर सतीशचंद जैन आदि उपस्थित रहे।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App