ताज़ा खबर
 

हरिद्वार में बनेगा देश का पहला गो तीर्थ, आरएसएस के सुझाव पर अमल करेगी बीजेपी सरकार

बैठक में गायों की सुरक्षा, गायों के चारे की जमीन पर हुए अतिक्रमण से मुक्त कराने पर भी चर्चा की गई।

तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है। फोटो सोर्स- यूट्यूब

अपनी चार धाम यात्रा के लिए प्रसिद्ध उत्तराखंड में अब जल्द ही गाय तीर्थ सेंटर या गो तीर्थ बनाया जाएगा। राष्ट्रीय स्वयं सेवक सघं (आरएसएस) के सुझाव पर उत्तराखंड के सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने हरिद्वार के कटारपुर गांव में इस तरह के केंद्र की स्थापना के लिए सहमति दे दी है। इसी सप्ताह आयोजित एक बैठक में आरएसएस के संयुक्त महासचिव कृष्ण गोपाल और दत्तात्रेय होसाबले ने अन्य आरएसएस नेताओं के साथ सीएम रावत और राज्य के कुछ मंत्रियों से मुलाकात की थी। आरएसएस के क्षेत्र सामाजिक समरसता संयोजक एल पी जायसवाल भी इस मीटिंग में मौजूद थे। उन्होंने बताया कि बैठक में गायों की सुरक्षा, गायों के चारे की जमीन को अतिक्रमण से मुक्त कराना, गायों के लिए बनाए गए शेल्टरों को दोबारा खोलना, कटारपुर में गाय स्मारक के निर्माण और गायों की सुरक्षा के लिए बजट में बढ़ोतरी पर चर्चा हुई।

जायसवाल ने कहा कि कटारपुर गांव वह गांव है जहां 1918 में गाय की हत्याओं के खिलाफ विरोध करते हुए हिंदुओं ने अपना जीवन बिताया था। 1918 में चार हिंदुओं को फांसी पर लटका दिया गया था। गांव में गाय की हत्याओं का विरोध करने पर अंग्रेजों ने 130 लोगों को काला पानी की सजा दी थी। जायसवाल ने कहा कि गांव को गो तीर्थ के रुप में विकसित किया जाएगा इसमें गायों का मैमोरियल बनाने के साथ गायों की सुरक्षा के लिए प्रदर्शनी लगाना भी शामिल है।

यह पुष्टि करते हुए कि मुख्यमंत्री रावत ने गाय संरक्षण केंद्र स्थापित करने पर सहमति जताई है, जायसवाल ने कहा हालांकि अभी इस बात पर चर्चा नहीं हुई है कि काम कब शुरू किया जाएगा। गाय संरक्षण पर एक और निर्णय में सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत 26 जुलाई को उत्तराखंड सरकार और योग गुरु बाबा रामदेव के पतंजलि योगपीठ के बीच एक सहयोग के लिए राजी हुए थे। इसमें गो धाम स्थापित करने के लिए गायों की सुरक्षा के लिए विश्व स्तरीय सुविधाएं होंगी। साथ ही गाय के दूध और गोमूत्र से गायों के उत्पादों के निर्माण और बिक्री पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा।

Next Stories
1 उत्तराखंड: पहाड़ के लिए सरकार के पास ठोस चिकित्सा नीति नहीं
2 उत्तराखंड: बादल फटने से 17 लोगों की मौत, बचाव कार्य में SDRF की चार टीमें
3 वीडियो: अब उत्तराखंड में भारी बारिश का कहर, पिथौरगढ़ का मुख्य ब्रिज ठहा, जन-जीवन प्रभावित
ये पढ़ा क्या?
X