ताज़ा खबर
 

उत्तराखंड: बीजेपी MLA बोले- मंदिर में क्या कर रहा था मुस्लिम युवक, संस्कृति नष्ट करने वालों को सबक सिखाएंगे

गजारिया मंदिर में वीएचपी समेत दक्षिणपंथी संगठन के सदस्यों ने इरफान (23) को 23 साल की हिन्दू लड़की के साथ देखा था। इसके बाद इन लोगों ने मुस्लिम युवक की पिटाई शुरू कर दी। पर ऐन मौके पर वहां तैनात सब इंस्पेक्टर गगनदीप सिंह ने अपने दम पर इरफान को गुस्सायी भीड़ से बचाया और उन्हें सुरक्षित स्थान पर ले गये।

उत्तराखंड के मंदिर में एक मुस्लिम युवक को हमलावर भीड़ से बचाते सब-इंस्पेक्टर गगनदीप सिंह।

उत्तराखंड के रामनगर शहर के गजारिया मंदिर में एक मुस्लिम युवक को हमलावर भीड़ से बचाने के लिए उत्तराखंड पुलिस के सब-इंस्पेक्टर गगनदीप सिंह की काफी तारीफ हुई थी। लेकिन इस मामले में बीजेपी विधायक राजकुमार ठुकराल ने सवाल खड़ा किया है। राजकुमार ठुकराल ने पूछा है कि आखिर मंदिर में हिन्दू लड़की के साथ मुस्लिम लड़के क्या कर रहे थे। उन्होंने कहा कि हिन्दू संगठन हमारी संस्कृति को नष्ट करने वालों को सबक सिखाएंगे। बता दें कि गजारिया मंदिर में वीएचपी समेत दक्षिणपंथी संगठन के सदस्यों ने इरफान (23) को 23 साल की हिन्दू लड़की के साथ देखा था। इसके बाद इन लोगों ने मुस्लिम युवक की पिटाई शुरू कर दी। पर ऐन मौके पर वहां तैनात सब इंस्पेक्टर गगनदीप सिंह ने अपने दम पर इरफान को गुस्सायी भीड़ से बचाया और उन्हें सुरक्षित स्थान पर ले गये।

इस मामले में 26 मई को मीडिया से बात करते हुए बीजेपी विधायक ने मंदिर में मुस्लिम युवकों की मौजूदगी पर आपत्ति जताई। उन्होंने कहा, “जो लोग रामनगर के माहौल को खराब करना चाहते हैं उन्हें सबक सिखाने का वक्त आ गया है, यदि रामनगर पुलिस और प्रशासन नहीं जागती है तो हिन्दुओं की सेना को आगे आना होगा और जो हिन्दू संस्कृति को नष्ट करना चाहते हैं उनसे लड़ना होगा।” उन्होंने सवाल खड़ा किया, “वे लोग मंदिर परिसर में हिन्दू लड़की के साथ क्या कर रहे थे, वे हिन्दुओं को भावनाओं को सुलगा रहे थे। ये घटना 22 मई को हुई थी। उन्होंने कहा कि वे लोग हिन्दू संस्कृति को नष्ट करने, जबरन धर्मांतरण, और लव जिहाद के खिलाफ संघर्ष करेंगे।” इस मामले में इरफान पर हमला करने के आरोप में पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है।

रामनगर के एसएचओ विक्रम राठौड ने बताया कि घटना के वीडियो की जांच की जा रही है। इसी के आधार पर आरोपियों का पता लगाया जाएगा। हालांकि 27 मई को जब उनसे बात की गई तो उन्होंने कहा कि इस मामले में अबतक किसी की गिरफ्तारी नहीं की गई है। पुलिस के मुताबिक आरोपियों को पहचानने की प्रक्रिया जारी है। इस बीच उत्तराखंड पुलिस के एसआई गगनदीप सिंह की कई लोगों ने प्रशंसा की है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App