ताज़ा खबर
 

उत्तराखंड: बाजार में बिक रहे “प्लास्टिक” के चावल, खाने की जगह गेंद बनाकर क्रिकेट खेल रहे लोग

उत्तराखंड में खाने की चीजों में मिलावट का ऐसा मामला सामने आया है जिसके बारे में जानकर आप दंग रह जाएंगे।

प्लास्टिक के चावल की गेंद बनाकर क्रिकेट खेलता परिवार। (Source: ANI/ Video Grab)

उत्तराखंड में खाने की चीजों में मिलावट का ऐसा मामला सामने आया है जिसके बारे में जानकर आप दंग रह जाएंगे। आप सोचने को मजबूर हो जाएंगे की आप जो खाना खा रहे हैं वह असली है भी या नहीं। समचार एजंसी एएनआई के मुताबिर उत्तराखंड के हलद्वानी इलाके में कथित रूप से प्लास्टिक के चावल बेचे जाने का मामला सामने आया है। खबर के मुताबिक पाल परिवार बाजार से लाए हुए चावल का इस्तेमाल खाने के लिए कर रहा था। उन्हें चावल के स्वाद में काफी फर्क महसूस हुआ तो परिवार को शक हुआ। इसके बाद चावल परखने के लिए परिवार ने एक प्रयोग करते हुए चावलों की एक गेंद बना डाली। चावल की एक गेंद दिखाई गई जिससे वे क्रिकेट खेल रहे हैं। चावल से बनी इस गेंद से खेलने वाला वीडियो काफी वाइरल भी हुआ है जिसके बाद इस मामले को संज्ञान में लिया गया है।

सिटी मजिस्ट्रेट के. के. मिश्रा ने कहा है कि इस मामले की सही और निष्पक्ष जांच की जाएगी। मिश्रा ने कहा- “एक टीम बनाई गई है जिसमें खाद्य सुरक्षा विभाग और नगर निगम के अधिकारी शामिल होंगे। ये टीमें अलग-अलग जगहों पर रेड करेंगी और कड़ी कार्रवाई करेंगी।”

वीडियो (Source: Youtube/ANI)

बता दें इससे पहले बीते मार्च महीने में कथित रूप से प्लास्टिक के अंडे बेचे जाने का मामला भी कोलकाता में सामने आया था। कोलकाता नगर निगम (KMC) ने शहर के बाजारों में कथित तौर पर ‘प्लास्टिक’ से बने ‘कृत्रिम अंडों’ की बिक्री की जांच के आदेश दिए थे। कोलकाता में अनीता कुमार नाम की एक महिला द्वारा ‘कृत्रिम अंडे’ को लेकर पुलिस में की गई शिकायत के बाद यह मामला सामने आया था। वहीं सिर्फ कोलकाता से ही ऐसी खबरें सामने नहीं आई थीं।

छत्तीसगढ़ में भी बीते साल दिसम्बर महीने में अंडों को लेकर सरकार ने अलर्ट जारी किया था। सोशल मीडिया पर भी यह खबर खूब वायरल हुई थी कि रासायनों द्वारा निर्मित नकली अंडे बनाकर चीन द्वारा भारत में लाए जा रहे हैं। ऐसे ही बीते साल अक्टूबर महीने में मनोरमा न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार केरल के इदुकी जिले में प्लास्टिक के बने कृत्रिम अंडे बरामद होने की खबर सामने आई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App