ताज़ा खबर
 

उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सरकारी आवास पर बनाई गौशाला, कहा – गाय रखने से घर में आती है शांति

रावत ने कहा कि गाय हमारी संस्कृति की प्रतीक है एवं घर में गाय रखने से आध्यात्मिक शांति और आनंद की अनुभूति होती है।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत (Photo: PTI)

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से प्रेरणा लेते हुए शुक्रवार (9 जून) को अपने आधिकारिक आवास में नवनिर्मित गौशाला का शुभारंभ किया और गाय की पूजा की। मुख्यमंत्री रावत ने अपनी पत्नी सुनीता के साथ गौशाला में लायी गयी गाय की पूजा की। फिलहाल एक गाय और उसका बछड़ा मुख्यमंत्री आवास स्थित गौशाला में लाये गये हैं।

मुख्यमंत्री ने गाय और उसके बछड़े को सहलाया तथा गुड़ एवं चना खिलाया। रावत ने कहा कि गाय हमारी संस्कृति की प्रतीक है एवं घर में गाय रखने से आध्यात्मिक शांति और आनंद की अनुभूति होती है। बता दें कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आवास पर भी गौशाला बना हुआ है। उनकी गौशाला में करीब 300 गाएं हैं। योगी आदित्यनाथ को इन गायों से काफी लगाव है। वे रोज सुबह दो घंटे गायों की सेवा करते हैं।

मुख्यमंत्री बनने के बाद योगी ने गोरखपुर तो छोड़ दिया, लेकिन वो गौ प्रेम को नहीं छोड़ पाए। योगी आदित्यनाथ के लिए गौसेवा उनकी दिनचर्या का हिस्सा है। वह स्वयं गाय का दूध पीते हैं। गोरखपुर के गोरखधाम मंदिर में उनसे जो भी मिलने जाता है, उसे गऊ की छाछ पीने को जरूर मिलता है।’’ योगी को करीब 12 साल से जानने वाले महाराज ने कहा, ‘‘जहां योगी जी रहेंगे, वहां गऊ तो रहेंगी ही। मुख्यमंत्री निवास पर रहेंगी गायें क्योंकि उनकी (योगी) दिनचर्या में ही गौसेवा है।’’

उनके करीबी बताते हैं कि योगी को जानवरों से बेहद लगाव है। उनके आश्रम में एक लेब्राडोर नस्ल का कुत्ता है। जिसका नाम कालू है, वह उनको बहुत प्रिय है। इसी तरह आश्रम में एक बिल्ली भी है, जिससे योगी को लगाव है। कालू को पूरे आश्रम का रखवाला कहा जाता है। इस बात की पुष्टि योगी की सोशल मीडिया पर शेयर हुई तस्वीरें भी करती हैं। सोशल मीडिया पर कुत्ते, बिल्ली और शेर के बच्चे के साथ आदित्यनाथ की फोटो सामने आ चुकी है।

देखिए वीडियो - उत्तर प्रदेश के बाद उत्तराखंड में भी सार्वजनिक स्थलों पर थूकना मना; 5000 रुपए जुर्माना, हो सकती है 6 महीने जेल की सजा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App