ताज़ा खबर
 

कोई वकील नहीं लड़ रहा चैंपियंस ट्रॉफी में जीत पर पाकिस्तान को बधाई देने वाले शादाब का केस, इंस्पेक्टर बोले- सही है बायकॉट

आईसीसी चैम्पियंस ट्रॉफी 2017 में पाकिस्तान की जीत के बाद आरोपी शादाब को पाकिस्तान की बढ़ाई करने के मामले में गिरफ्तार किया है।

Team India, Pakistan, Pakistan Cricket team, pcb, bcci, Pakistan challenges India, Pakistan challenges India in cricket, Shaharyar Khan, Bilateral cricket, Cricket news, Hindi newsजीत का जश्न मनाते हुए पाकिस्तानी क्रिकेट टीम। (Source: AP/PTI Photo)

रुड़की के लकसर में एक शख्स को बीते शुक्रवार (23 जून) कथित रूप से पाकिस्तानी क्रिकेट टीम की तारीफ और आपत्तिजनक बातें फेसबुक पर लिखने के मामले में गिरफ्तार किया था। आईसीसी चैम्पियंस ट्रॉफी 2017 में पाकिस्तान की जीत के बाद आरोपी शादाब को पाकिस्तान की बढ़ाई करने के मामले में गिरफ्तार किया है। वहीं इस मामले में किसी भी वकील ने शादाब का केस लड़ने से इंकार कर दिया है। टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक लकसर एडवोकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष स्वतंत्र कुमार ने कहा है कि शादब द्वारा की गई हरकत देश विरोधी है और इसी के चलते शहर में सभी वकीलों ने उसका केस लड़ने से इंकार कर दिया है। वकीलों के इस फैसले के बाद शादाब के परिजन दहशत में हैं। परिवार वालों का कहना है कि किसी वकील के उसका केस नहीं लड़ने के चलते उन्हें शादाब के जेल जाने का डर है। हालांकि दूसरी तरफ परिवार शादाब की सुरक्षा की चिंता के चलते उसे जल्दी जमानत भी नहीं दिलाने के पक्ष में है।

खबर के मुताबिक शादाब के एक रिश्तेदार ने कहा, “जेल के बाहर उसकी जान को खतरा है क्योंकि कुछ कट्टर हिंदू दक्षिणपंथी संगठन उसकी आलोचना कर रहे हैं और उस पर हमला भी किया जा सकता है।” वहीं शादाब के चाचा महबूब हसन ने भी कहा- “कोई वकील नहीं मिलने की वजह से हम कोर्ट से सरकारी वकील की मांग करेंगे लेकिन हमें उसकी जमानत की कोई जल्दी नहीं है क्योंकि हमें डर है बाहर आने के बाद उस पर जानलेवा हमला हो सकता है। उसकी जमानत के लिए हम ईद के बाद अपील करेंगे और उम्मीद है कि तब तक मामला थोड़ा शांत हो जाएगा।”

बता दें शादाब को एक जेवर कारोबारी मोहित वर्मा की शिकायत के बाद आईपीसी की धारा 153-A के तहत गिरफ्तार किया गया था। बीते शनिवार को कोर्ट में पेशी के बाद शादाब को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। वहीं खबर के मुताबिक मामले को लेकर लकसर पुलिस स्टेशन के इंस्पेक्टर ने नवीन चंद्रा सेमवाल ने वकीलों के इस फैसले की तारीफ की है। इंस्पेक्टर नवीन ने कहा, “आरोपी शख्स एक ग्रेजुएट है और समझदार है। उसने जो काम किया अंजाने में नहीं किया। वकीलों ने जो फैसला लिया है उसका स्वागत किया जाना चाहिए।”

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 गंगा मैली करने पर अब हो सकती है सात साल की जेल और देना होगा 100 करोड़ रुपए का जुर्माना
2 उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सरकारी आवास पर बनाई गौशाला, कहा – गाय रखने से घर में आती है शांति
3 उत्तराखंड: बाजार में बिक रहे “प्लास्टिक” के चावल, खाने की जगह गेंद बनाकर क्रिकेट खेल रहे लोग
ये पढ़ा क्या?
X