ताज़ा खबर
 

‘खंड-खंड’ पर रेंगतीं गाड़ियां

उत्तराखंड के चारों धामों में हालत यह है कि पेट्रोल-डीजल की भारी किल्लत हो गई है। एटीएम खाली हो चुके हैं। बदरीनाथ धाम का पहला पड़ाव जोशीमठ पड़ता है, जिसमें 10 एटीएम हैं जिनमें से केवल तीन एटीएम ही काम कर रहे हैं।

Author June 12, 2019 1:45 AM
बदरीनाथ में अब तक एक महीने में पांच लाख से ऊपर तीर्थयात्री पहुंच चुके हैं।

सुनील दत्त पांडेय

उत्तराखंड के चारों धामों में भारी तादाद में वाहनों की आवाजाही के कारण सड़कों में लंबा जाम लगा हुआ है। तीथर्यात्रियों को घंटों तक जाम में फंसने के कारण परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इसी वजह से ज्योतिषपीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती को अपनी बदरीनाथ यात्रा फिलहाल स्थगित करनी पड़ी और उन्हें हरिद्वार में ही रुकना पड़ा। इस साल चारों धामों में रेकार्ड तोड़ तादाद में तीर्थयात्री पहुंच रहे हैं। बदरीनाथ में अब तक एक महीने में पांच लाख से ऊपर तीर्थयात्री पहुंच चुके हैं।

ज्येष्ठ मास में सोमवती अमावस्या पड़ने के कारण भारी तादाद में तीर्थयात्री पहुंचे हैं। पुलिस के मुताबिक सोमवती अमावस्या के दिन हरिद्वार में ही 67 लाख से ज्यादा लोगों ने गंगा स्नान किया। इससे एक दिन पहले हरिद्वार-ऋषिकेश में भारी भीड़ के कारण हालात बेकाबू हो गए थे। राज्य के पुलिस महानिदेशक (अपराध एवं कानून व्यवस्था) अशोक कुमार को देहरादून से हरिद्वार पहुंचकर हालात को संभालना पड़ा।

पेट्रोल और पैसा सबका संकट
उत्तराखंड के चारों धामों में ही नहीं बल्कि सरोवर नगरी नैनीताल और पर्वतों की रानी मसूरी में भी भीषण जाम लगा हुआ है। नैनीताल में तो हल्द्वानी से आगे प्रशासन ने वाहनों के ले जाने पर पाबंदी लगा दी है। नैनीताल जिले में भीमताल, सात ताल, खुर्पाताल और नौकुचियाताल में जाने वाली सड़कों में घंटों तक जाम रहा।

उत्तराखंड के चारों धामों में हालत यह है कि पेट्रोल-डीजल की भारी किल्लत हो गई है। एटीएम खाली हो चुके हैं। बदरीनाथ धाम का पहला पड़ाव जोशीमठ पड़ता है, जिसमें 10 एटीएम हैं जिनमें से केवल तीन एटीएम ही काम कर रहे हैं। जोशीमठ में ज्योतिर्पीठ में रहने वाले स्वामी श्रवणानंद महाराज का कहना है कि ऋषिकेश से जोशीमठ पहुंचने में 15 घंटे से ज्यादा का समय लग रहा है। जबकि आम तौर पर ऋषिकेश से जोशीमठ की दूरी टैक्सी द्वारा छह-सात घंटे में तय कर ली जाती है। बदरीनाथ धाम चमोली जिले में पड़ता है। चमोली जिले में 70 एटीएम हैं। जिनकी क्षमता प्रतिदिन पांच करोड़ की है। इसके बावजूद तीर्थयात्रियों को इन एटीएम में पर्याप्त धनराशि उपलब्ध नहीं हो पा रही है।

अगले दो सप्ताह में चार धाम यात्रियों की तादाद और ज्यादा बढ़ सकती है। उसे देखते हुए चार धामों के जिलों टिहरी, पौड़ी, उत्तरकाशी, चमोली, रूद्रप्रयाग, हरिद्वार, देहरादून के जिलाधिकारियों और पुलिस अधीक्षकों को व्यवस्था में सुधार करने के निर्देश दिए गए हैं।
-उत्पल कुमार सिंह, मुख्य सचिव

भारी तादाद में पर्यटकों की आवाजाही के कारण जाम की स्थिति पैदा हुई, उसे दूर करने के लिए पुलिस प्रशासन ने कई कठोर कदम उठाए हैं।
-अशोक कुमार, उत्तराखंड के पुलिस महानिदेशक (अपराध एवं कानून व्यवस्था)

चारों धामों के यात्रामार्ग पर पेट्रोल डीजल की कमी को दूर करने के लिए ठोस कदम उठाए गए हैं। इस बार अनुमान से बहुत ज्यादा श्रद्धालु और पर्यटक उत्तराखंड में आ रहे हैं, जो पिछले साल की तुलना में ढाई गुना ज्यादा हैं।
– त्रिवेंद्र सिंह रावत, मुख्यमंत्री , उत्तराखंड

चारधाम यात्रा के लिए सही बंदोबस्त करने में राज्य सरकार नाकाम रही और राज्य सरकार की सभी घोषणाएं हवाई साबित हो गई हैं। सारी व्यवस्थाएं चरमरा गई हैं।
– इंदिरा हृदयेश, नेता प्रतिपक्ष

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X