Uttrakhand: Aasha worker Lockout New BJP CM Trivendra Singh Rawat Office - Jansatta
ताज़ा खबर
 

उत्‍तराखंड: नए भाजपा सीएम के दफ्तर में आशा कार्यकर्ताओं ने की तालाबंदी

4 साल से इन आशा वर्करों को प्रोत्साहन भत्ता नहीं मिला है, इसी को लेकर ये प्रदर्शन कर रही थीं

उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत (PTI Photo)

उत्तराखंड के नए सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत कार्यलय (CMO) में आशा कार्यकर्ताओं ने तालाबंदी कर दी। इसके चलते काम भी प्रभावित हुआ। 5 सूत्रीय मांगों को लेकर आशा वर्कर प्रदर्शन कर रही थीं। 4 साल से इन आशा वर्करों को प्रोत्साहन भत्ता नहीं मिला है। इसी को लेकर आशा कार्यकत्रियां लगातार प्रदर्शन करती आ रही है और गुरुवार को उन्होंने सीएमओ में तालाबंदी कर दी। उनका कहना है कि लगातार इस मामले की शिकायत की गई, लेकिन अधिकारियों ने कोई संज्ञान नहीं लिया। इसके बाद उन्हें मजबूरन नए भाजपा सीएम के दफ्तर में तालाबंदी करनी पड़ी। उनकी मांग है कि जल्द से जल्द उनके भत्ते की अदायगी हो। यह आशा वर्कर पुरानी हरीश रावत सरकार के समक्ष भी अपनी इस मांग को रख चुकी हैं।

पिछले साल अगस्त माह में ततकालीन हरीश रावत सरकार ने आशा वर्कर्स को जा रहे 5000 रुपए प्रतिवर्ष की प्रोत्साहन राशि के अतिरिक्त दो हजार रुपये प्रतिमाह मानदेय देने की घोषणी की थी। पूर्व सीएम हरीश रावत ने कहा था कि प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में प्राथमिक स्वास्थ्य की सुविधाएं उपलब्ध कराने व स्वास्थ्य संबंधी जन जागरूकता में आशा कार्यकत्रियों की महत्वपूर्ण भूमिका है।

बता दें कि आरएसएस के पूर्व प्रचारक त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने हाल ही में उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली है। उत्तराखंड में भाजपा ने विधानसभा चुनावों में बहुमत हासिल किया था। 70 सीटों में से भाजपा की BJP ने 56 सीटों पर जीत का परचम लहराया है। यह राज्य में अब तक के इतिहास में न केवल BJP, बल्कि किसी भी दल के लिए सबसे बड़ा आंकड़ा है।

महाराष्ट्र: बॉम्बे हाई कोर्ट ने डॉक्टरों से हड़ताल खत्म कर काम पर लौटने को कहा, सुरक्षा का दिया भरोसा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App