ताज़ा खबर
 

उत्तरांखड: वंदे मातरम ना गाने पर अड़ी कांग्रेस, कहा- चाहे जो हो जाए नहीं गाएंगे

रावत ने कहा था कि राज्य सरकार राष्ट्र गान और राष्ट्र गीत गाने का समय भी नियत करेगी।

Author देहरादून | April 14, 2017 10:00 AM
तिरंगे की तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है।

उत्तराखंड में वंदे मातरम का विवाद बढ़ता जा रहा है। उत्तराखंड कांग्रेस की तरफ से कहा गया है कि वे लोग किसी भी आधिकारिक प्रोग्राम में एक महीने तक वंदे मातरम नहीं गाएंगे चाहे जो हो जाए। दरअसल उत्तराखंड सरकार के मंत्री धन सिंह रावत ने कहा था कि जो भी उत्तरांखड में रहते हैं उन लोगों को वंदे मातरम गाना ही होगा। उसके बाद ही राज्य की कांग्रेस ने यह ऐलान किया। रावत ने यह भी कहा था कि राज्य के सभी स्कूलों में राष्ट्र गीत को गवाया जाना अनिवार्य बनाया जाएगा। इसपर उत्तराखंड कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने कहा, ‘वे लोग इस तरीके से चीजों को लोगों पर थोप नहीं सकते। मैं ऐलान करता हूं कि हमारे किसी भी कार्यक्रम में पूरे एक महीने तक वंदे मातरम नहीं गाया जाएगा, चाहे जो हो जाए।’

इसपर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट ने कहा कि ऐसा करके कांग्रेस पुराने रीति-रिवाजों को तोड़ रही है, जिसके अनुसार किसी भी आधिकारिक कार्यक्रम को राष्ट्र गीत गाकर समाप्त किया जाता है।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पांच अप्रैल को रुड़की में एक कार्यक्रम में कहा था कि उत्तराखंड में रहना है तो वंदे मातरम गाना होगा। रावत ने कहा था कि राज्य सरकार राष्ट्र गान और राष्ट्र गीत गाने का समय भी नियत करेगी। रावत ने कहा था कि राष्ट्र गीत सुबह 10 बजे और राष्ट्र गान शाम चार बजे गाना चाहिए। रावत ने यह भी कहा था कि राज्य के सभी सरकारी और प्राइवेट कॉलेजों में स्नातक और परास्नातक छात्रों के लिए ड्रेस-कोड तय किया जाएगा।

उत्तराखंड में इस वक्त बीजेपी की सरकार है। विधानसभा चुनाव 2017 में बीजेपी को जीत मिली थी। भाजपा ने त्रिवेंद्र सिंह रावत को मुख्यमंत्री बनाया था। इससे पहले उत्तराखंड में कांग्रेस की सरकार थी। हरीश रावत वहां के मुख्यमंत्री थे। हरीश रावत का एक कथित स्टिंग भी सामने आया था। जिसमें वह नेताओं को पैसे देकर अपनी तरफ करने की कोशिश कर रहे थे।

देखिए वीडियो - उत्तर प्रदेश के बाद उत्तराखंड में भी सार्वजनिक स्थलों पर थूकना मना; 5000 रुपए जुर्माना, हो सकती है 6 महीने जेल की सजा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App