scorecardresearch

बोले पुष्कर सिंह धामी- भाग्य की चीज नहीं ले सकता कोई माई का लाल; जानें-उत्तराखंड CM का क्यों आया यह बयान?

खटीमा विधानसभा से चुनाव हारने का जिक्र सीधे तौर पर न करते हुए उन्होंने कहा कि जिंदगी में भले ही सबकुछ हार जाओ लेकिन जीत की उम्मीद जिंदा रखो। उनके इतना कहने पर वहां मौजूद कई नेताओं ने धामी जिंदाबाद के नारे लगाये।

बोले पुष्कर सिंह धामी- भाग्य की चीज नहीं ले सकता कोई माई का लाल; जानें-उत्तराखंड CM का क्यों आया यह बयान?
उत्तराखंड के सीएम पुष्कर सिंह धामी(फोटो सोर्स: ट्विटर/@pushkardhami)।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का मानना है कि भाग्य की चीजों को कोई नहीं ले सकता। उत्तराखंड के हल्द्वानी में 8 जून को भाजपा की कार्यसमिति की बैठक में सीएम धामी ने जनप्रतिनिधियों, पदाधिकारियों से लेकर पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से कहा कि अगर कोई चीज भाग्य में हो तो उसे कोई बदल नहीं सकता।

इशारों-इशारों में कही बड़ी बातें: पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि जिसके भाग्य में लकीरें होती हैं, उसे कोई माई का लाल छीन नहीं सकता। इसके अलावा उन्होंने आपस में सभी से सामंजस्य बनाने की भी बात कही। दरअसल भाजपा की कार्यसमिति की बैठक में राजनीतिक प्रस्तावों और कार्यक्रमों की समीक्षा होनी थी लेकिन इस कार्यक्रम में सीएम पुष्कर सिंह धामी ने इशारों-इशारों में काफी कुछ कह दिया।

दरअसल हाल ही में धामी ने चंपावत विधानसभा उपचुनाव में बंपर जीत हासिल की है। इससे वो काफी उत्साहित भी नजर आ रहे हैं। हालांकि इससे पहले वो खटीमा से चुनाव हार गये थे। ऐसे में हारने के बाद भी भाजपा आलाकमान ने उन्हें राज्य का सीएम बनाया। माना जा रहा है कि उनका ताजा बयान इसी को लेकर है।

कहा- सबकुछ हार कर भी जीत की उम्मीद रखो: खटीमा से हार का जिक्र सीधे तौर पर न करते हुए उन्होंने कहा कि जिंदगी में भले ही सबकुछ हार जाओ लेकिन जीत की उम्मीद जिंदा रखो। उनके इतना कहने पर वहां मौजूद कई नेताओं ने धामी जिंदाबाद के नारे लगाये।

धामी ने आपस में सामंजस्य बनाने पर जोर देते हुए कहा कि हमारा ऐसा परिवार है, जहां हम सभी का सुख-दुख बांट सकते हैं। अगर हम आपस में एक दिन भी बात न करें तो हमें उदास लगना चाहिए। सीएम धामी ने कहा कि राज्य की जनता ने हमें भारी बहुमत दिया है। अब हमें फलों से लदे पेड़ की तरह झुककर लोगों की सेवा करनी है।

बता दें कि उत्तराखंड भाजपा की प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में मिशन 2024 को लेकर मंथन किया गया। इसमें सांसद और विधायकों को कमजोर बूथों को मजबूत करने के लिए कहा गया। इसमें सांसदों के पास सौ और विधायकों के पास 25 कमजोर बूथों को मजबूत करने की जिम्मेदारी होगी।

पढें उत्तराखंड (Uttarakhand News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट