ताज़ा खबर
 

यूपी: दलित लड़की की शादी में पानी सप्‍लाई करने से मना किया, परिवार बोला- CM के पास जाएंगे

दलित परिवार की दुल्हन ने इस मामले में कहा, "पानी सप्लाई करने वाले ने हमें पानी देने से मना कर दिया, क्योंकि हम निचली जाति से ताल्लुक रखते हैं, हम उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई चाहते हैं, नहीं तो फिर यही घटना दूसरों के यहां भी दुहराई जाएगी।"

दलित परिवार ने कहा कि अगर स्थानीय स्तर पर उनकी शिकायत नहीं सुनी जाती तो वे सीएम के पास जाएंगे।

उत्तर प्रदेश के एटा में एक दलित परिवार को पानी की सप्लाई नहीं दी गई। इस परिवार में एक लड़की की शादी थी। इसे लेकर तैयारियां चल रही थी। दलित परिवार वाले पानी का इंतजाम करने के लिए एक सप्लायर के पास गये। लेकिन उन्हें तब हैरानी हुई जब सप्लायर ने सिर्फ वजह से पानी देने से मना कर दिया, क्योंकि ये दलित थे। पानी सप्लायर ने पानी ना देने के बड़ी अजीब तर्क भी बताई है। इस शख्स ने कहा कि अगर वह निचली जाति के लोगों को पानी देगा तो फिर अगड़ी जाति के लोग उससे पानी नहीं लेंगे। दलित परिवार की दुल्हन ने इस मामले में कहा, “पानी सप्लाई करने वाले ने हमें पानी देने से मना कर दिया, क्योंकि हम निचली जाति से ताल्लुक रखते हैं, हम उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई चाहते हैं, नहीं तो फिर यही घटना दूसरों के यहां भी दुहराई जाएगी।” दलित परिवार के एक दूसरे सदस्य ने कहा कि उन्होंने इस मामले में पुलिस में एक शिकायत दर्ज कराई है, अगर इस मामले में कुछ नहीं होगा तो हमलोग सीएम के दरबार में जाएंगे।

दुल्हन ने कहा कि पानी ना होने की वजह से एक वक्त तो उनकी शादी टूटते-टूटते बची। लड़की के मुताबिक जब बारातियों को पानी नहीं मिला तो वे काफी नाराज हो गये। इसके बाद लड़की के परिवार वालों ने विनती की। तब उसकी शादी हो पाई। लड़की की मां ने कहा कि वह इस घटना से काफी दुखी है। लड़की की मां ने कहा, “क्या हम खाना नहीं खाते हैं, क्या हम इंसान नहीं है? क्या ये सही है। बता दें कि इस इलाके में दो लोगों ने आरओ के प्लांट लगा रखे हैं। ये लोग पूरे इलाके में पीने के पानी की सप्लाई करते हैं। बता दें कि उत्तर प्रदेश के इन इलाकों में अक्सर जातिभेद की खबरें आती रहती है। पीड़ित परिवार ने डीएम को भी आवेदन दिया है और इंसाफ की गुहार लगाई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories