ताज़ा खबर
 

UP: लड़की खोजने अल्पसंख्यक मुहल्ले में घुसी पुलिस टीम पर हमला, कई थानों की पुलिस पहुंची तो बची जान

नाबालिग लड़की के अपहरण की खबर मिलने पर दबिश देने के लिए पुलिस अल्पसंख्यकों के गांव में गई थी। लेकिन पुलिस को देखकर मोहल्ले वाले एकजुट हो गए। उन्होंने ट्रेनी दारोगा और सिपाही को रस्सी से बांध दिया। इसके बाद जमकर पिटाई की गई।

UP police, muzaffarnagar police, Yogi adityanath police, Jansath police, योगी आदित्यनाथ, यूपी पुलिस, मुजफ्फरनगर, फतेहपुर, जानसठ पुलिस स्टेशन, उत्तर प्रदेश पुलिस, Hindi news, news in Hindi, Jansattaउत्तर प्रदेश पुलिस (image source-Twitter)

यूपी के वाराणसी में नाबालिग लड़की के अपहरण की खबर मिलने पर दबिश देने के लिए पुलिस अल्पसंख्यकों के गांव में गई थी। लेकिन पुलिस को देखकर मोहल्ले वाले एकजुट हो गए। उन्होंने ट्रेनी दारोगा और सिपाही को रस्सी से बांध दिया। इसके बाद जमकर पिटाई भी की गई। छापा मारने आई पुलिस टीम ने जब भीड़ का ये हाल देखा तो सभी जान बचाकर भाग गए। बाद में बैकअप फोर्स आने पर दोनों को मुक्त करवाया गया। मामला वाराणसी के लोहता थाना क्षेत्र के हरपालपुर गांव का है।

दरअसल बीते पांच जुलाई को लोहता गांव के एक निवासी ने शिकायत दर्ज करवाई थी कि उसकी नाबालिग बेटी का स्कूल जाते वक्त किसी ने अपहरण कर लिया है। वह शाम तक घर लौटकर नहीं आई थी। लड़की ने पिता ने एक हफ्ते तक खोजबीन के बाद औरंगाबाद के शाहिद अंसारी के खिलाफ अपहरण और बलात्कार का मामला दर्ज करवा दिया। पुलिस को खबर मिली कि इस मामले का आरोपी शाहिद अंसारी अपने दोस्त के साथा मामा हाजी यासीन अंसारी के घर में रह रहा है।

सूचना मिलते ही प्रशिक्षु एसआई भूपेंद्र सिंह, पवन यादव, राहुल, मैनेजर सिंह, नेहा कनौजिया और लड़की के घर के लोग हरपालपुर गांव पहुंच गए। पुलिस वालों को देखकर गांव वाले एकजुट हो गए और भूपेंद्र सिंह के साथ पवन यादव को बंधक बना लिया। दोनों को हाजी यासीन अंसारी के घर में रस्सी से बांधकर पीटा जाने लगा। ये हाल देखकर अन्य पुलिस वाले जानबचाकर मौके से भाग निकले और अधिकारियों को सूचना दी। हालांकि इस मामले में ग्रामीणों का आरोप है कि पुलिस ने पहले महिलाओं के साथ अभद्रता की थी।

बंधक बनाए जाने की सूचना मिलते ही जंसा और लोहता थाने की फोर्स ने दारोगा और सिपाही को मुक्त करवा लिया। घटना की सूचना मिलने पर एसपी ग्रामीण अमित कुमार कई थानों का फोर्स लेकर हरपालपुर गांव पहुंचे और 40 ग्रामीणों को गिरफ्तार करके मामला दर्ज कर लिया। पुलिस को देखकर ग्रामीण घरों में ताला लगाकर भागने लगे। लेकिन पुलिस पूरी तैयारी से आई थी। किसी को भागने का मौका नहीं मिला। पुलिस सभी आरोपियों को बस में गिरफ्तार करके थाने ले आई। हाजी यासीन अंसारी ने बताया कि पुलिस ने मेरे बहनोई और उनके परिवार के साथ मारपीट की थी। इसी कारण गांव वाले भड़क गए और पुलिसकर्मियों को पीट दिया।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 भगवा कुर्ता पहन अमर सिंह पहुंचे पीएम के सामने, बोले- नरेंद्र मोदी के लिए जीवन समर्पित 
2 अखिलेश के साथ मंच साझा नहीं करना चाहते मुलायम! कार्यकारिणी की बैठक से रहे नदारद
3 यूपी में पीएम मोदी बोले- मैं कॉर्पोरेट्स के सा‍थ खड़े होने से नहीं डरता
ये पढ़ा क्या?
X