ताज़ा खबर
 

पिछली दिवाली पर चूक गए थे, इस साल फिर अयोध्‍या में वर्ल्‍ड रिकॉर्ड की तैयारी में योगी सरकार

RMLAU के कॉर्डिनेटर आशीष कुमार मिश्रा ने बताया कि पांच हजार से अधिक लोगों द्वारा राम की पौड़ी पर दिए जलाए जाएंगे। राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ आखिर में 16 फीट व्यास वाला दिया जाएंगे।

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ। (एक्सप्रेस फोटोः विशाल यादव)

पिछले साल दिवाली पर विश्व रिकॉर्ड बनाने के लिए छोटे से अंतर चूकी उत्तर प्रदेश की योगी आदित्य नाथ के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार इस बार फिर विश्व रिकॉर्ड बनाने का प्रयास करेगी। राम मनोहर लोहिया अवध यूनिवर्सिटी, फैजाबाद, जिन्हें विश्व रिकॉर्ड बनाने का काम सौंपा गया है, ने रिकॉर्ड बनाने के लिए अपने कोशिशों को और बढ़ा दिया है। खबर के मुताबिक आयोजनकर्ता इस बार करीब तीन लाख मिट्टी के दिए अयोध्या में सरयू नदी के किनारे जलाने की योजना बना रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक साल 2017 में 1.71 लाख दिए जलाकर मिट्टी के दिए जलाकर विश्व रिकॉर्ड बनाने की कोशिश की गई थी, मगर इसमें विवाद हो गया, क्योंकि आगे की लाइन में दीयों का हिस्सा पांच मिनट की देरी तक जला ही नहीं। गिनीज टीम 10 फीसदी त्रुटि को ही अनुमति देती है, जिसे हासिल नहीं किया जा सका।

RMLAU के वाइस चांसलर प्रोफेसर मनोज दीक्षित ने बतया कि अयोध्या के आसपास और आसपास के कुंहार दिया बना रहे हैं, जबकि विश्वविद्यालय ने दीपक को प्रकाश देने के लिए स्वयंसेवकों की लिस्ट को अंतिम रूप दे दिया है। उन्होंने आगे कहा कि गिनीज एक्सपर्ट की एक टीम अगले सप्ताह शुरुआती आंकलन के लिए अयोध्या पहुंचने वाली है। रिकॉर्ड के लिए सभी कागजी तैयारी कर ली गई हैं। इस बार आयोजन स्थल पर किसी पत्थर को बेसुरा नहीं छोड़ा है।

इसके अलावा RMLAU के कॉर्डिनेटर आशीष कुमार मिश्रा ने बताया कि पांच हजार से अधिक लोगों द्वारा राम की पौड़ी पर दिए जलाए जाएंगे। राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ आखिर में 16 फीट व्यास वाला दिया जाएंगे। राज्य का टूरिज्म विभाग भी इस आयोजन को लेकर काफी गंभीर है। शहर की सभी मशहूर इमारतों, मंदिरों और घाटों को सजाया जा रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App