ताज़ा खबर
 

यूपी: जिला पंचायत सदस्यों की खरीद-फरोख्त रोकने में जुटी बीजेपी-एसपी, एक ने सदस्यों को भेजा नेपाल तो दूसरे ने गोवा

अधिकतर सपा समर्थित सदस्‍य काठमांडू और हिमाचल प्रदेश में गुप्‍त लोकेशंस पर रुके हुए हैं।

बरेली में डीएम ने जिला पंचायत में बहुमत परीक्षण का फैसला किया है।

उत्‍तर प्रदेश के बरेली की जिला पंचायत में राजनीतिक दांव-पेंच चले जा रहे हैं। यहां 60 सदस्‍यीय बोर्ड में अब तक समाजवादी पार्टी की चलती थी। टाइम्‍स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, बीजेपी की शह पर 17 सदस्‍यों ने अविश्‍वास प्रस्‍ताव पास कर दिया है। जिसके बाद जिलाधिकारी ने 28 अक्‍टूबर को बहुमत परीक्षण (फ्लोर टेस्‍ट) कराने का आदेश दिया है। किसी तरह की अनहोनी से बचने के लिए, अधिकतर बीजेपी समर्थित सदस्‍य गोवा में एक गुप्‍त जगह पर कैम्‍प कर रहे हैं, जबकि सपा ने अपने सदस्‍यों को नेपाल के काठमांडू भेज दिया है। टीओआई से सूत्र के हवाले से लिखा है, ‘अधिकतर सपा समर्थित सदस्‍य काठमांडू और हिमाचल प्रदेश में गुप्‍त लोकेशंस पर रुके हुए हैं। ऐसे इंतजाम किये गए हैं कि वह बाकी लोगों से बातचीत न कर पाएं। उनके फोन रखवा लिए गए हैं।’ दूसरी तरफ बीजेपी का दावा है कि उनके खेमे के सदस्‍य अक्‍टूबर के पहले हफ्ते से ही छुट्टी पर हैं। भाजपा के एक सदस्‍य ने टीओआई से कहा, ”दर्जन भर सदस्‍य गोवा के एक रिजॉर्ट में रखे गए हैं। उनके से कुछ दिवाली के लिए लौटेंगे और फिर वापस चले जाएंगे। सबकी वापसी 28 अक्‍टूबर को बहुमत परीक्षण से पहले होगी।

बताया जा रहा है कि जिला पंचायत पर नजर गड़ाए बैठे कुछ भाजपा विधायकों ने यह पूरा खेल रचा। जिला पंचायत चेयरमैन संजय सिंह ने टीओआई से कहा, ‘हम हमेशा प्रचंड बहुमत में रहे हैं और यह बहुमत परीक्षण भी नहीं टिकेगा। हमारे पीछे पहले से ही 40 सदस्‍य हैं।’ बता दें कि, भाजपा समर्थित एक प्रतिनिधिमंडल ने जिलाधिकारी राघवेंद्र विक्रम सिंह से मुलाकात कर अविश्‍वास प्रस्‍ताव कराने को कहा।

दावा है कि बहुमत परीक्षण में जीत के लिए 31 सदस्‍यों का समर्थन चाहिए। अगर यही स्थिति रहती है तो सपा बहुमत में बनी रहेगी। हालांकि यह पता लगने के बाद कि भाजपा 31 के आंकड़े तक पहुंचने के लिए जोड़-तोड़ कर रही है, सपा की सांसें फूल गई हैं। गौरतलब है कि सितंबर में जिला पंचायत कार्यालय में सपा-भाजपा के सदस्‍य भिड़ गए थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App