uttar pradesh high school topper gets 1 lac cheque from cm yoginath cheque bounce - हाईस्कूल टॉपर को योगी आदित्यनाथ के हाथों मिला 1 लाख का चेक बाउंस, अकाउंट से जुर्माना भी कटा - Jansatta
ताज़ा खबर
 

हाईस्कूल टॉपर को योगी आदित्यनाथ के हाथों मिला 1 लाख का चेक बाउंस, अकाउंट से जुर्माना भी कटा

सात जून तक रकम उसके खाते में नहीं पहुंची। इसके बाद जब उसने अधिकारियों से संपर्क किया तो उसे कहा गया कि चेक बाउंस हो गया है। बैंक अधिकारियों ने सिग्नेचर ना मिलने को चेक के बाउंस होने की वजह बताया है। जिला विद्यालय निरीक्षक मामले को खुद देख रहे हैं।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ के हाथों सम्मानित एक टॉपर को बेइज्जती का सामना करना पड़ा है। बाराबंकी जिले के टॉपर छात्र को सीएम ने एक लाख रुपये का चेक दिया था। छात्र जब इस चेक को भुनाने बैंक गया तो चेंक बाउंस हो गया। इसके बाद छात्र के अकाउंट से जुर्माने के रूप में पैसा भी कट गया। शिक्षा विभाग को जैसे ही ये जानकारी मिली वहां हड़कंप मच गया है। जिला विद्यालय निरीक्षक ने छात्र को फिर से चेक देने की घोषणा की है। बाराबंकी के यंग स्ट्रीम इंटर कॉलेज के छात्र आलोक मिश्रा ने हाईस्कूल की परीक्षा में 9.35 फीसदी अंक हासिल किये थे। आलोक को प्रदेश में सातवां स्थान मिला था।

29 मई को सीएम ने आलोक को लखनऊ में सम्मानित किया और पुरस्कार स्वरुप उसे एक लाख रुपये का चेक दिया था। दैनिक हिन्दुस्तान की रिपोर्ट के मुताबिक सीएम द्वारा आलोक को दिया गया चेक बाराबंकी के जिला विद्यालय निरीक्षक राजकुमार यादव के हस्ताक्षर से एसबीआई के विभागीय खाते से जारी किया गया था। इस चेक का नंबर 974926 था। आलोक ने लखनऊ के हजरतगंज के देना बैंक में 5 जून को ये चेक लगाई। सात जून तक रकम उसके खाते में नहीं पहुंची। इसके बाद जब उसने अधिकारियों से संपर्क किया तो उसे कहा गया कि चेक बाउंस हो गया है। बैंक अधिकारियों ने सिग्नेचर ना मिलने को चेक के बाउंस होने की वजह बताया है। जिला विद्यालय निरीक्षक मामले को खुद देख रहे हैं।

जिला विद्यालय निरीक्षक के मुताबिक इनाम पाये किसी दूसरे छात्र ने ऐसी शिकायत नहीं की है। इधर चेक बाउंस होने की खबर जैसे ही स्कूल प्रबंधन ने शिक्षा विभाग को दी। वहां हड़कंप मच गया। स्कूल प्रबंधन ने तुरंत बाउंस चेक को लेकर छात्र को बुलाया। इसके बाद स्कूल के कर्मचारी नया चेक लेकर छात्र के घर पहुंचे और कहा कि इसे जिला विद्यालय निरीक्षक की ओर से भेजा गया है। चेक मिलने के बाद छात्र के परिजन संतुष्ट हैं। उन्होंने कहा कि विभागीय अधिकारियों को पहले सरकारी दस्तावेजों की जांच करनी चाहिए ताकि लोगों को परेशानी ना हो।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App