ताज़ा खबर
 

यूपी में बंगले का झमेला: अखिलेश यादव बोले- नहीं खाली करूंगा बंगला!

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद उत्तर प्रदेश के आधा दर्जन पूर्व मुख्यमंत्रियों को सरकारी बंगले खाली करने होंगे। राज्य संपत्ति विभाग ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुपालन में 6 पूर्व मुख्यमंत्रियों को 15 दिन में बंगले खाली करने के नोटिस भेजा है।

यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्रियों पर सरकारी बंगला खाली करने का दबाव लगातार बढ़ता जा रहा है। इस बीच पूर्व मुख्यमंत्री एवं समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने राज्य संपत्ति विभाग से बंगला खाली करने के लिए दो साल का समय देने का अनुरोध किया है। विभाग की तरफ से अभी कोई जवाब नहीं आया है। अखिलेश ने राज्य संपत्ति अधिकारी योगेश शुक्ला को पत्र लिखकर बंगला खाली करने के लिए दो साल का वक्त मांगा है। उन्होंने अपने निजी सचिव गजेंद्र सिंह के मार्फत यह पत्र राज्य संपत्ति विभाग को भेजवाया है। अखिलेश का पत्र विभाग को प्राप्त हो गया है।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद उत्तर प्रदेश के आधा दर्जन पूर्व मुख्यमंत्रियों को सरकारी बंगले खाली करने होंगे। राज्य संपत्ति विभाग ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुपालन में 6 पूर्व मुख्यमंत्रियों को 15 दिन में बंगले खाली करने के नोटिस भेजा है। इस महीने के अंत तक उस नोटिस की मियाद खत्म हो रही है। सुप्रीम कोर्ट ने 1 अगस्त, 2017 को फैसला सुनाया था कि मुलायम सिंह यादव समेत राज्य के सभी छह पूर्व मुख्यमंत्रियों को दो महीने के भीतर सरकारी बंगला खाली करना होगा। शीर्ष अदालत ने कहा था कि 1997 के जिस नियम के तहत उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्रियों को आजीवन सरकारी बंगला दिया गया है, उसका कोई कानूनी आधार नहीं है।

इधर. पूर्व मुख्यमंत्री और बसपा सुप्रीमो मायावती सरकारी बंगला 13 ए एवेन्यू मॉल खाली कर एक-दो दिन में 9 ए एवेन्यू मॉल में शिफ्ट होनेवाली हैं लेकिन उन्होंने पुराने बंगले पर कब्जा बरकरार रखने की नीयत से वहां “श्री कांशीराम जी यादगार विश्राम स्थल” का बोर्ड लगवा दिया है। इसे बंगले पर कब्जा जमाए रखने का मायावती का पैंतरा कहा जा रहा है। कुछ दिनों पहले पूर्व सीएम मुलायम सिंह यादव ने भी सरकारी बंगला बचाने के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की थी और उस बारे में फार्मूला पेश किया था लेकिन वो मीडिया में लीक हो गया। सीएम ने तब अपने दो अधिकारियों को हटा दिया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App