ताज़ा खबर
 

संत कबीर की मजार पर योगी आदित्यनाथ को टोपी पहनाना चाह रहे थे खादिम, सीएम ने कर दिया मना

वीडियो में सीएम जैसे ही समाधि के पास पहुंचे हैं, वे अपना हाथ जोड़कर प्रणाम करते दिख रहे हैं, तभी एक खादिम उन्हें टोपी पहनाना चाहते हैं, और वे टोपी लेकर सीएम के माथे की ओर ले जाते हैं, सीएम तुरंत दोनों हाथ आगेकर मना कर देते हैं।

सीएम संत कबीर की मजार पर उन्हें नमन करने पहुंचे थे।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संतकबीर नगर स्थित कबीर की समाधि पर टोपी पहनने से इनकार कर दिया। योगी आदित्यनाथ यहां पर पीएम के दौरे को देखते हुए तैयारियों का जायजा लेने पहुंचे थे। सीएम जब महान संत कबीर की समाधि पर पहुंचे तो वहां मौजूद एक खादिम ने उन्हें परंपरागत टोपी पहनानी चाही, लेकिन सीएम ने उन्हें मना कर दिया। इससे जुड़ा एक वीडियो भी सामने आया है। इस वीडियो में सीएम जैसे ही समाधि के पास पहुंचे हैं, वे अपना हाथ जोड़कर प्रणाम करते दिख रहे हैं, तभी एक खादिम उन्हें टोपी पहनाना चाहते हैं, और वे टोपी लेकर सीएम के माथे की ओर ले जाते हैं, सीएम तुरंत दोनों हाथ आगेकर मना कर देते हैं। इसके बाद खादिम हाथ में टोपी लेकर खड़े रहते हैं, सीएम योगी टोपी को छूते हैं, इसके बाद खादिम टोपी को रख देते हैं।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी उत्तर प्रदेश के संत कबीर नगर में आज ‘संत कबीर अकादमी‘ की आधारशिला रखेंगे और मगहर में जनसभा को संबोधित करेंगे।प्रधानमंत्री संत कबीर दास की 500वीं पुण्यतिथि पर उनकी परिनिर्वाण स्थली पर जाकर उनकी मजार पर चादर चढ़ाएंगे। मोदी एक जनसभा को भी संबोधित करेंगे, जिसे भाजपा 2019 के लोकसभा चुनावों के मद्देनजर प्रचार की शुरूआत के रूप में देख रही है। योगी इस कार्यक्रम की तैयारियों का जायजा लेने बुधवार (27 जून) को मगहर पहुंचे थे। इसी क्रम में वह संत कबीर के मजार पर भी पहुंचे थे।

इस इलाके में मंगलवार को हुई भारी बारिश की वजह से प्रधानमंत्री के प्रस्तावित रैली स्थल में जलभराव हो गया है, जिसे खत्म करने के लिये युद्धस्तर पर काम किया जा रहा है।मुख्यमंत्री को मगहर से गोरखपुर लौटना था लेकिन वहां हुई भारी बारिश के कारण प्रधानमंत्री के कार्यक्रम में तब्दीली के कारण उन्हें लखनऊ आना पड़ा। प्रधानमंत्री के बदले हुए कार्यक्रम के मुताबिक वह अब लखनऊ से हेलीकॉप्टर के जरिये मगहर रवाना होंगे। वह गोरखपुर नहीं जाएंगे। इससे पहले उन्हें विमान से गोरखपुर जाना था। उसके बाद मगहर तक की लगभग 30 किलोमीटर की दूरी हेलीकाप्टर से तय करनी थी। बता दें कि इससे पहले एक सार्वजनिक कार्यक्रम में नरेंद्र मोदी भी मुस्लिम टोपी पहनने से इनकार कर चुके हैं। नरेंद्र मोदी तब गुजरात के मुख्यमंत्री थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App