ताज़ा खबर
 

सपा-बसपा के वोट बैंक पर योगी आदित्‍यनाथ की नजर, दलित और ओबीसी आरक्षण में बदलाव की तैयारी

यूपी विधानसभा में मुख्यमंत्री ने कहा, "बीजेपी सरकार इस बात को लेकर प्रतिबद्ध है कि दलित और पिछड़ी जातियों का आरक्षण किसी खास वर्ग तक सीमित ना रहकर सभी वर्गों तक पहुंचे, इस बार में रूप रेखा तय करने के लिए एक कमेटी बनाई गई है।"

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को लखनऊ में कहा कि आरक्षण सुविधा को समाप्त नहीं किया गया है और जरूरत पड़ने पर सरकार अति पिछड़ों तथा अति दलितों के लिये भी आरक्षण के बारे में विचार कर सकती है। योगी ने विधानसभा में बजट पर चर्चा के दौरान कहा सरकार एक रूप रेखा तय कर रही है जिससे ये सुनिश्चित किया जा सके कि दलितों और पिछड़ी जातियों के आरक्षण पर खास जाति या समूहों का ही कब्जा ना रह जाए, बल्कि इसका फायदा दूसरी उप जातियां भी उठा सके। यूपी विधानसभा में मुख्यमंत्री ने कहा, “बीजेपी सरकार इस बात को लेकर प्रतिबद्ध है कि दलित और पिछड़ी जातियों का आरक्षण किसी खास वर्ग तक सीमित ना रहकर सभी वर्गों तक पहुंचे, इस बार में रूप रेखा तय करने के लिए एक कमेटी बनाई गई है। सीएम ने कहा कि कमेटी की रिपोर्ट आने के बाद इसे ग्रुप तीन और ग्रुप चार की सरकारी नौकरियों के लिए लागू किया जाएगा।

HOT DEALS
  • Sony Xperia L2 32 GB (Gold)
    ₹ 14845 MRP ₹ 20990 -29%
    ₹1485 Cashback
  • Apple iPhone 7 32 GB Black
    ₹ 41999 MRP ₹ 52370 -20%
    ₹6000 Cashback

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार विकास से वंचित हर दलित और गरीब का ख्याल रखेगी, क्योंकि आजादी के बाद उन्हें मुख्यधारा में लाने की जरूरत है। सीएम ने कहा कि उन्होंने कहा, ‘‘हम बिना किसी भेदभाव के रोजगार देंगे। पूर्व में लेन-देन हुआ करता था। क्या कोई राज्य लोक सेवा आयोग की नौकरी के लिये 40 से 60 लाख रुपये लिये जाने के बारे में सोच सकता है? जांच रिपोर्ट आने दीजिये, जो भी दोषी होगा वह जेल जाएगा और उनकी सम्पत्ति कुर्क की जाएगी।‘‘ योगी ने कहा कि राज्य सरकार इस महीने 25 हजार करोड़ रुपये के निवेश प्रस्तावों को जमीन पर उतारेगी। अगले तीन साल के दौरान 20 लाख युवाओं को रोजगार दिया जाएगा अगर सभी निवेश परियोजनाएं जमीन पर उतरीं तो इससे 35 लाख लोगों को नौकरी मिलेगी। उन्होंने कहा कि शासन की कार्यपद्धति कैसी हो, हमने यह दिखाने की कोशिश की है। नेता प्रतिपक्ष राम गोविन्द चौधरी अपने आंकड़ों को ठीक कर लेते तो अच्छा होता, उन्हें लगता है कि बजट सम्बन्धी आंकड़ों को अगर वह फिर देख लेंगे तो अच्छा होगा। चौधरी बोलते ज्यादा और करते कम हैं।

योगी ने प्रदेश की भाजपा सरकार द्वारा पिछले एक साल के दौरान कोई काम नहीं किये जाने के विपक्ष के आरोप का जवाब देते हुए कहा कि सरकार ने इस अवधि में अनेक योजनाएं शुरू की हैं और केन्द्र के समन्वय से काम किया है। उन्होंने विभिन्न विभागों के बजट में कटौती के आरोपों पर महकमेवार आंकड़े दिये और कहा कि सिर्फ उन्हीं चीजों के बजट में कटौती की गयी है, जिनका पैसा कुछ लोगों की जेब में जाता था। मुख्यमंत्री ने पूर्ववर्ती सरकारों पर प्रदेश की चीनी मिलें बेचकर प्रदेश की जनता को छलने का आरोप लगाते हुए कहा कि उनकी सरकार कुछ भी बेचने के लिये सत्ता में नहीं आयी है। उन्होंने घोषणा की कि सरकार सीमा पर शहीद होने वाले जवानों के नाम पर गांवों का विकास करेगी। उन गांवों में मूलभूत सुविधाएं देने के साथ-साथ शहीदों के नाम का ‘तोरण द्वार‘ भी लगाया जाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App