ताज़ा खबर
 

तोहफे में मिली गाय को आजम खान ने लौटाया, कहा- क्‍या पता कोई बदनाम करने के लिए उसे मार दे

हिंदू संत ने अक्तूबर 2015 में तब खान को काले रंग की एक गाय भेंट की थी जब उन्होंने अपनी डेयरी में एक गाय रखने की इच्छा जताई थी।

Author April 9, 2017 8:26 PM
समाजवादी पार्टी नेता आजम खान (File Photo)

समाजवादी पार्टी (सपा) के वरिष्ठ नेता आजम खान ने रविवार (9 अप्रैल) को यह कहते हुए गोवर्धन पीठ के शंकराचार्य स्वामी अधोक्षजानंद महाराज से उपहार में मिली गाय लौटा दी कि उन्हें ‘‘बदनाम’’ करने के लिए कोई भी स्वयंभू गौरक्षक जानवर की हत्या कर सकता है। उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री ने हिंदू संत को लिखे एक पत्र में कहा, ‘‘मुस्लिम असुरक्षा के माहौल में रह रहे हैं, कोई भी स्वयंभू गौरक्षक मुझे या मुस्लिम समुदाय को बदनाम करने के लिए उसे नुकसान पहुंचा सकता है या खूबसूरत और लाभकारी जानवर की हत्या भी कर सकता है।’’

हिंदू संत ने अक्तूबर 2015 में तब खान को काले रंग की एक गाय भेंट की थी जब उन्होंने अपनी डेयरी में एक गाय रखने की इच्छा जताई थी। खान ने आरोप लगाया कि ‘‘देश में मुस्लिमों के खिलाफ एक कुटिल दुष्प्रचार शुरू किया गया है और उनकी हालत दासों से भी बदतर हो गई है।’’

उन्होंने राज्य सरकार पर दोहरा मापदंड अपनाने का आरोप लगाया और कहा ‘‘वीवीआईपी को मांस का सेवन करने की इजाजत है लेकिन आम लोगों को बेवजह परेशान किया जा रहा है और यहां तक कि उनका सफाया कर दिया जा रहा है।’’

सपा नेता ने शंकराचार्य से कहा कि उन्होंने गाय से ‘‘सर्वश्रेष्ठ व्यवहार’’ किया और जानवर को उसकी ‘‘सुरक्षा’’ के मद्देनजर लौटाया जा रहा है। उन्होंने पत्रकारों से कहा कि गाय को दोपहर में संत को ‘‘सुरक्षित’’ भेज दिया गया।

‘गौहत्या पर पूरे देश में एक कानून हो’

संघ प्रमुख मोहन भागवत ने रविवार को कहा कि संघ पूरे देश में गौ हत्या के खिलाफ कानून चाहता है। गौ हत्या को एक ‘‘बुराई’’ करार देते हुए इसे हर हाल में दूर किये जाने पर जोर देते हुए उन्होंने ‘‘कानून और संविधान का पूर्ण सम्मान करते हुए’’ ज्यादा लोगों को इस अभियान से जोड़कर गौ संरक्षण प्रयास को और आगे ले जाने की वकालत की।

भागवत ने कहा, ‘‘गायों की रक्षा करते हुए ऐसा कुछ भी नहीं किया जाना चाहिए जिससे कुछ लोगों की मान्यता आहत हो। ऐसा कुछ भी नहीं किया जाना चाहिए जो हिंसक हो। इससे सिर्फ गौ रक्षकों के प्रयासों की बदनामी होगी…गायों के संरक्षण का काम कानूनों और संविधान का सम्मान करते हुए किया जाना चाहिए।’’

देखिए वीडियो - राजस्थान: अलवर में गौ-रक्षकों ने गायों की तस्करी के शक में कुछ लोगों को जमकर पीटा, 1 की मौत

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App