ताज़ा खबर
 

यूपी: BJP विधायक और जिलाध्‍यक्ष पर अवैध खनन का आरोप, शिकायत नहीं सुनी तो सीएम के काफिले के आगे कूदा युवक

श्याम मिश्रा ने बताया, "6 महीने से अवैध खनन पर रोक लगाने के लिए अधिकारियों व मंत्रियों के चक्कर लगा चुका हूं, लेकिन कोई मेरी सुनने वाला नहीं है।"

Author लखनऊ | December 30, 2017 4:55 PM
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ। (फोटो पीटीआई)

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के काफिले के सामने शनिवार को एक युवक अचानक कूद गया। सोनभद्र से आए इस युवक श्याम मिश्रा ने सोनभद्र से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सदर विधायक तथा भाजपा के जिलाध्यक्ष पर अवैध खनन का आरोप लगाया है। फिलहाल पुलिस युवक को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। मुख्यमंत्री योगी शनिवार सुबह लोकभवन में एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने जा रहे थे। उसी समय श्याम मिश्रा ने मुख्यमंत्री के काफिले के सामने छलांग लगा दी। लोकभवन के गेट पर सोनभद्र ओबरा निवासी श्याम मिश्रा (30) ने योगी के काफिले के आगे कूदने का प्रयास किया। उस युवक को सुरक्षाकर्मियों ने पकड़ा और हजरतगंज पुलिस को सौंप दिया है।

मुख्यमंत्री की गाड़ी के पीछे राज्यपाल राम नाईक, उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा व महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस की गाडियां थीं। श्याम मिश्रा ने सोनभद्र के भाजपा जिला अध्यक्ष अशोक कुमार मिश्रा और सदर विधायक भूपेश चौबे पर बालू और गिट्टी खनन का आरोप लगाया है। उसने बताया कि वह लखनऊ के लक्ष्मण मेला ग्राउंड में कई बार जिलाध्यक्ष और विधायक पर कार्रवाई की मांग एवं खनन के विरोध को लेकर अनशन कर चुका है।

श्याम मिश्रा ने बताया, “6 महीने से अवैध खनन पर रोक लगाने के लिए अधिकारियों व मंत्रियों के चक्कर लगा चुका हूं, लेकिन कोई मेरी सुनने वाला नहीं है। इससे आहत होकर आज हमने मुख्यमंत्री की लीट के सामने लगाई छलांग।” उसने भाजपा के जिला अध्यक्ष अशोक मिश्रा और राबर्ट्सगंज के विधायक भूपेश दुबे पर अवैध खनन का आरोप लगाया है। उसने कहा कि 2200 की परमिट 14000 में बेची जा रही है और अवैध खनन के चलते वहां की जनता अपना आशियाना नहीं बना पा रही है। उसने बताया कि हर बार आश्वासन देकर लौटा दिया जाता है। वह शनिवार की सुबह चौकी इंचार्ज गौतम पल्ली के साथ मुख्यमंत्री आवास पर मुख्यमंत्री से मुलाकात करने गया था। वहां मुलाकात न होने पर लोक भवन के गेट पर पहुंचा। मुख्यमंत्री के आगमन की जानकारी पर मीडिया कर्मियों के बीच खड़ा हो गया और जैसे ही मुख्यमंत्री का काफिला वहां पहुंचा तो मैंने उसमें कूदने का प्रयास किया।”

गौरतलब है कि योगी सरकार बनने के बाद सोनभद्र में अवैध खनन को रोकने के लिए तमाम प्रयास किये गए, लेकिन आरोप है कि वहां के स्थानीय भाजपा नेताओं के दखलअंदाजी की वजह से अवैध खनन का धंधा तेजी से फल-फूल रहा है। इससे पहले भी स्थानीय सांसदों ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर अवैध खनन को रोकने के लिए कदम उठाने का अनुरोध किया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App