अखिलेश यादव का सीएम योगी पर हमला, बोले- ‘बाबा मुख्यमंत्री’ के साथ ‘बुल-बुलडोजर’ भी चला जाएगा

अखिलेश यादव ने मंगलवार को कानपुर में ‘विजय रथ यात्रा’ के दौरान कहा कि इस बार होने वाले चुनाव में ‘बाबा मुख्यमंत्री’ और उनके ‘बुल बुलडोजर दोनों नहीं रहेंगे।’

कानपुर में 'विजय रथ यात्रा' के दौरान सपा के मुखिया अखिलेश यादव। फोटो- एक्सप्रेस

उत्तर प्रदेश में जोरदार ‘चुनावी संग्राम’ शुरू हो गया है। समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने भी मंगलवार को कानपुर से ‘विजय रथ यात्रा की शुरुआत कर दी है।’ इस मौके पर उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर सीधा हमला बोला। उन्होंने कहा कि अगले चुनाव में ‘बाबा मुख्यमंत्री’ और उनका ‘बुल-बुलडोजर’ दोनों ही नहीं रहेंगे।

उन्होंने ‘बुल-बुलडोजर’ कहकर खुले घूमने वाले सांड़ों के लिए टिप्पणी की। इसके अलावा योगी सरकार में अवैध संपत्तियों के ढहाने के मिशन को लेकर अखिलेश ने मुख्यमंत्री पर निशाना साधा। उन्होंने कहा, ‘ये जो सरकार चल रही है, ये जो हमारे बाबा मुख्यमंत्री हैं…ये बाबा मुख्यमंत्री अकेले नहीं जाएंगे, इनके साथ बुल भी चला जाएगा और बुलडोजर भी चला जाएगा। जो बाबा मुख्यमंत्री बुलडोजर लेकर घूम रहे हैं।’ अखिलेश यादव की रथ यात्रा का पहला स्टॉप कानपुर के घाटमपुर में था।

पूर्व मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया कि भाजपा ने किसानों को कुचल दिया है। 3 अक्टूबर को लखीमपुर खीरी में हुई घटना को लेकर उन्होंने कहा, ‘अगर यह सरकार उत्तर प्रदेश में फिर वापस आई तो संविधान को भी कुचल देगी। इसीलिए यह रथ यात्रा निकाली गई है ताकि लोग इस सरकार को उठाकर बाहर फेंक सकें। यह रथ यात्रा किसानों के अधिकार दिलाने की यात्रा है।’

बिना नाम लिए प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधते हुए अखिलेश यादव ने कहा, उनकी पार्टी ने बड़े-बड़े दावे किए लेकिन अब तक न तो गंगा ही साफ हो सकी हैं और न ही उनकी सहायक नदियां। बता दें कि साल 2014 में मोदी ने वाराणसी से अपने चुनाव प्रचार की शुरुआत की थी और उन्होंने ‘मां गंगा’ से आशीर्वाद मांगा था।

अखिलेश ने कहा कि उनकी पार्टी जल्द ही चुनावी घोषणापत्र जारी करेगी। उन्होंने कहा कि अगर उत्तर प्रदेश में सपा की सरकार बनी तो वह अपनी पुरानी योजनाओं को फिर से शुरू करेगी। अखिलेश यादव ने कानपुर में गंगा पुल से अपनी रथ यात्रा की शुरुआत की थी।

पढें उत्तर प्रदेश समाचार (Uttarpradesh News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट