ताज़ा खबर
 

यूपी: बच्‍ची ने कहा- कारों में ले जाते थे, सुबह लड़कियां रोती हुई लौटती थीं, शेल्‍टर होम चलाने वाले पति-पत्‍नी गिरफ्तार

शेल्टर होम में गाड़ियां आती थी और 15 साल से बड़ी लड़कियों को अपने साथ जबरन ले जाती थीं। ये लड़कियां अगले दिन रोते हुए वापस लौटती थी।

पुलिस ने आरोपी पुरुष और उसकी पत्नी सहित शेल्टर होम चलाने वाले मैनेजर को गिरफ्तार कर लिया है। (फोटो सोर्स एएनआई)

उत्तर प्रदेश के देवरिया में कथित तौर पर बिहार के मुजफ्फरपुर जैसा कांड सामने आया है। यहां पुलिस ने शेल्टर होम चलाने वाले पति-पत्नी को गिरफ्तार किया है। इसके अलावा 24 लड़कियों को भी शेल्टर होम से बचाया गया है। आरोप है कि इन लड़कियों का यौन उत्पीड़न किया जाता था। आरोपियों का लाइसेंस रद्द करने के बाद सीबीआई ने मामले की जांच शुरू कर दी है। न्यूज एजेंसी एएनआई के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक आरोपी दंपत्ती के अलावा शेल्टर होम के मैनेजर को भी गिरफ्तार किया गया है। मामला तब प्रकाश में आया जब एक बच्ची आरोपियों के चंगुल से भागकर पुलिस के पास जा पहुंची। बच्ची ने पुलिस को बताया कि वहां (शेल्टर होम में) उनसे नौकरों की तरह बर्ताव किया जाता है। बच्ची ने आगे बताया कि शेल्टर होम में गाड़ियां आती थी और 15 साल से बड़ी लड़कियों को अपने साथ जबरन ले जाती थीं। ये लड़कियां अगले दिन रोते हुए वापस लौटती थी।

एसपी रोहन के. पांडे ने बताया, ‘जब इस संस्थान को बंद करने का आदेश दिया गया, तो हमारे लोग वहां गए और संगठन के निदेशक ने हमारी टीम के साथ गलत व्यवहार किया। बाद में एक लड़की शेल्टर होम से भागकर हमारे पास पहुंची। इसके बाद हमें पूरी सच्चाई का पता चला। शेल्टर होम की जांच के दौरान कई बड़े खुलासे हुए हैं। 24 लड़कियों को अभी तक सुरक्षित बचा लिया गया है। संस्थान के डायरेक्टर गिरिजा त्रिपाठी और उसकी पत्नी को भी गिरफ्तार किया गया है।, एसपी रोहन के. पांडे के मुताबिक मामले में बारीकी से जांच की जा रही है।

बता दें कि ऐसी ही घटना पिछले दिनों बिहार के मुजफ्फरपुर में सामने आई थे। यहां लड़कियों संग यौन उत्पीड़न के चौंकाने वाले खुलासे हुए। जानकारी के मुताबिक शेल्टर होम में रेड मारकर वहां से 44 लड़कियों को सुरक्षित बताया था। हालांकि राज्य के मुख्यमंत्री को इस मामले में काफी विरोध का सामना करना पड़ा। विपक्ष ने उनपर आरोपियों के खिलाफ एक्शन नहीं लेने के आरोप लगाए थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App