ताज़ा खबर
 

योगी आदित्य नाथ की अधिकारियों को सख्त हिदायत – हम जमीन पर बैठने वाले लोग हैं, मेरे लिए ना हो कोई खास प्रबंध

यह फैसला तब लिया गया जब हाल ही में उनकी दो यात्राओं पर खास प्रबंध के कारण विवाद उत्पन्न हो गया था।

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्य नाथ।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने अपने प्रधान सचिव और अधिकारियों को सख्त हिदायत दी है कि अगर वे राज्य में किसी जगह की यात्रा के लिए जाते हैं तो उनके लिए किसी भी प्रकार के खास प्रबंध न किए जाएं। शुक्रवार को योगी आदित्य नाथ ने इस मामले को लेकर निर्देश जारी किए। यह फैसला तब लिया गया जब हाल ही में उनकी दो यात्राओं पर खास प्रबंध के कारण विवाद उत्पन्न हो गया था। योगी आदित्य नाथ ने अधिकारियों से कहा कि हम जमीन से जुड़े लोग हैं और हमें जमीन पर बैठना ही पसंद है इसलिए किसी भी प्रकार के हमारे लिए खास प्रबंध न किए जाएं।

योगी द्वारा दिए गए इस निर्देश में कहा गया है कि मुख्यमंत्री केवल सम्मान का हकदार है और वो भी तब जब उसके राज्य की जनता महसूस करे कि हां उनके मुख्यमंत्री को सम्मान मिलना चाहिए। आपको बता दें कि पिछले महीने मई में योगी प्रेम सागर के घर गए थे, जो कि बीएसएफ में थे। प्रेम सागर जम्मू-कश्मीर में शहीद हो गए थे। योगी के वहां पहुंचने से पहले उनके अधिकारियों ने उनके लिए काफी इंतजाम किए थे। स्थानीय प्रशासन ने योगी के लिए एयर कंडीशनर, कारपेट, सोफा और पूरी जगह भगवा रंग के तौलिए लगवा दिए थे। वहीं योगी के जाने के बाद इन सभी सामान को हटवा दिया गया था।

प्रेम सागर के भाई दया शंकर जो कि खुद भी बीएसएफ में हैं, उन्होंने कहा कि योगी जी के लिए स्थानीय प्रशासन ने यह इंतजाम किया था लेकिन उनके जाते ही सब हटा दिया गया। शंकर ने कहा कि यह हमारी बेइज्जती हुई है। ऐसा ही कुछ पिछले हफ्ते भी देखने को मिला था जब योगी उत्तर प्रदेश के सबसे गरीब समुदाय मुशाहार के एक गांव उनसे भेंट करने पहुंचे थे। स्थानीय लोगों ने आरोप लगाया कि प्रशासन ने उन्हें साबुन और शैंपू बांटे थे और कहा था कि कुशीनगर के कार्यक्रम में हिस्सा लेने से पहले अच्छे से नहाकर और खुद को साफ-सुथरा बनाकर आएं। इन दोनों मामलों की एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुई जिसके बाद योगी ने अधिकारियों को ऐसा कुछ भी न करने की हिदायत दी।

देखिए वीडियो - सहारनपुर हिंसा को लेकर योगी आदित्य नाथ के रवैये से बीजेपी परेशान

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App