ताज़ा खबर
 

योगी आदित्‍य नाथ से मिलीं उमा भारती, बाहर निकलकर बोलीं- राम मंदिर के लिए फांसी पर भी लटकना पड़ा तो लटक जाऊंगी

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि बुंदेलखंड में विकास परिषद का गठन जल्द किया जाएगा। वहां बुंदेलों और चंदेलों के समय से तालाब हैं।

Author April 8, 2017 18:27 pm
केंद्रीय मंत्री उमा भारती। (File Photo)

केंद्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर शनिवार (8 अप्रैल) को कहा कि यह उनकी आस्था का विषय है और इसके लिए उन्हें जेल भी जाना पडे़ तो जाएंगी। उमा भारती ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘राम मंदिर मेरी आस्था का विषय है। मेरे विश्वास का विषय है। मुझे इस पर गर्व है। अगर जेल भी जाना पडे़ तो मैं जाऊंगी, फांसी पर लटकना पडे तो लटक जाऊंगी’’

जब सवाल किया गया कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ मुलाकात के दौरान क्या अयोध्या में राम मंदिर निर्माण पर चर्चा हुई तो उमा ने कहा, ‘‘राम मंदिर पर हमें बात करने की जरूरत कहां रहती है। इस विषय पर हम (योगी और उमा) अजनबी नहीं हैं। योगी जी के गुरू महंत अवैद्यनाथ राम मंदिर आंदोलन के पुरोधा थे।’’

उन्होंने कहा कि मामला सुप्रीम कोर्ट में है इसलिए वह ज्यादा नहीं बोलेंगी लेकिन खुद सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि मामले का हल अदालत से बाहर भी हो सकता है।

उमा ने गंगा की सफाई पर जवाब देते हुए कहा गंगा सहित विभिन्न नदियों की सफाई के अलावा बुंदेलखंड में सिंचाई सुविधाएं मुहैया कराने की दिशा में जल्द और तेजी से कार्य शुरू होगा। उन्होंने कहा, ‘‘गंगा के लिए हम 7000 करोड़ रूपये मई अंत तक देना चाहते हैं। सिंचाई के लिए 15 से 20 हजार करोड़ रूपये केंद्र मदद करना चाहता है।’’

उन्होंने विश्वास जताया कि योगी के मुख्यमंत्री बनने के बाद अब उत्तर प्रदेश में तेजी से काम होगा। गंगा सफाई को लेकर योगी बतौर सांसद भी सदन में कई बार बोल चुके हैं। उमा ने कहा कि केंद्र और राज्य सरकार के विभाग मिलकर योगी के समक्ष गंगा सफाई के बारे में प्रस्तुतिकरण देंगे और उम्मीद है विलंब दूर होगा तथा इस दिशा में कार्य जल्द ही तेजी से शुरू किया जाएगा।

गोमती रिवर फ्रंट सहित गंगा एवं अन्य नदियों से जुड़ी परियोजनाओं में पूर्व की सपा सरकार के समय हुए घपलों की जांच कराने के बारे में उमा ने कहा कि गोमती के बारे में जल की स्वच्छता और परियोजना की लागत बड़े मुद्दे हैं। ‘‘आगे काम होगा। हम सहयोग भी करेंगे लेकिन जब तक कमियां उजागर नहीं होंगी, काम आगे नहीं बढ़ सकेगा इसलिए सभी घोटालों की जांच होगी और काम भी आगे बढे़गा।’’

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि बुंदेलखंड में विकास परिषद का गठन जल्द किया जाएगा। वहां बुंदेलों और चंदेलों के समय से तालाब हैं। सूखे के निदान के लिए और पेयजल मुहैया कराने के लिए इन तालाबों को परस्पर संबद्ध करना होगा। योगी की तारीफ करते हुए उमा ने कहा कि उनका मुख्यमंत्री बनना युग परिवर्तन है। प्रदेश की जनता में खुशी का संचार है। ‘‘योगी मजबूत और पक्के इरादों वाले व्यक्ति हैं। वह गरीबों के लिए काम करते आए हैं। पूर्व में भी बतौर सांसद हम उनकी प्रशासनिक क्षमता को देख चुके हैं।’’

तीन तलाक पर उन्होंने कहा कि मुस्लिम समाज में तलाक की व्यवस्था एक करार है। यह धर्म का नहीं बल्कि कानून का विषय है। समाज में हमेशा सुधार की गुंजाइश रहती है। तीन तलाक मानवता के खिलाफ है और हमें उम्मीद है कि जल्द ही इसका रास्ता निकलेगा।

पृथक बुंदेलखंड बनाने के प्रस्ताव पर उमा भारती ने कहा कि पहले राज्य पुनर्गठन आयोग बनाया जाएगा। उसके बाद बुंदेलखंड को लेकर प्रस्ताव जाएगा। हमारी सरकार छोटे राज्यों की पक्षधर रही है। दरअसल, बुंदेलखंड क्षेत्र दो राज्यों में पड़ता है। मध्य प्रदेश की तरफ वाली बुंदेलखंड की जनता पृथक राज्य के लिए तैयार नहीं है। पहले इसका निदान खोजना होगा।

देखिए वीडियो - बाबरी मस्जिद विध्वंस मामला: आडवाणी, उमा भारती समेत 13 नेताओं पर चल सकता है केस, 22 मार्च को होगा फैसला

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App