ताज़ा खबर
 

गिरफ्तार किए गए गौ तस्‍करों के पास से मिली मेनका गांधी के हस्‍ताक्षर वाली चिट्ठी, प्रशासन से मदद के आदेश

एसएसपी ने बताया कि दो लेटर्स पर जो साइन मिले हैं, वे सही हैं। लेकिन उन पर जो लिखा है, वह फर्जी है। फिलहाल, पुलिस इस मामले की तफ्तीश में जुटी है कि आरोपियों के पास साइन किए गए लेटर कहां से आए हैं।

Author बरेली | March 28, 2018 3:18 PM
केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी। (एक्सप्रेस फोटो)

उत्तर प्रदेश पुलिस ने दो लोगों को गौ तस्करी के आरोप में गिरफ्तार किया है। इन दोनों आरोपियों को पुलिस ने सोमवार को बरेली के नवाबगंज इलाके से गिरफ्तार किया। पुलिस को इनके पास से केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी और उनके स्पेशल ड्यूटी ऑफिसर आनंद लाल चौधरी द्वारा साइन किए गए लेटर बरामद हुए हैं। इन गौ तस्करों के बारे में सूचना विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं द्वारा पुलिस को दी गई थी। पुलिस थाने में दर्ज कराई गई शिकायत के अनुसार, आरोपी मोहन लाल और जमील खान को पीलीभीत-बरेली रोड से गिरफ्तार किया गया। इन पर आरोप है कि ये दो बैलों को काटने के लिए एक वैन में लेकर जा रहे थे।

इनके साथ इंतेजार नाम का एक व्यक्ति भी था जो मौका पाकर वहां से भाग निकला। इस मामले पर बात करते हुए बरेली के एसएसपी जोगेंद्र कुमार ने बताया कि आरोपियों के पास से पीलीभीत सांसद मेनका गांधी द्वारा साइन किए गए कुछ ब्लैंक लेटर बरामद किए गए हैं। इसके अलावा, मेनका गांधी के ओएसडी आनंद लाल चौधरी द्वारा लिखा गया एक लेटर मिला है, जिस पर पीलीभीत के जिला मजिस्ट्रेट को संबोधित करते हुए जनवरों की तस्करी को रोकने के लिए मोहन लाल को प्रशासनिक सहायता प्रदान करने को कहा गया है।

इस लेटर में लिखा है कि मोहन लाल पीपुल फॉर एनिमल्स संगठन का सदस्य है और वह जानवरों के हित के लिए काम करता है। इस लेटर पर आनंद लाल चौधरी के साइन मौजूद हैं। एसएसपी ने बताया कि दो लेटर्स पर जो साइन मिले हैं, वे सही हैं। लेकिन उन पर जो लिखा है, वह फर्जी है। फिलहाल, पुलिस इस मामले की तफ्तीश में जुटी है कि आरोपियों के पास साइन किए गए लेटर कहां से आए हैं। एसएसपी ने बताया कि ये जाली लेटर भाग चुके आरोपी इंतेजार द्वारा तैयार किए गए थे। उसकी गिरफ्तारी के बाद साफ हो जाएगा कि उसने कैसे इन्हें तैयार किया था। वहीं, इस मामले पर मेनका गांधी के प्रतिनिधि एम.आर मलिक का कहना है कि उन्हें इस घटना और जाली लेटर्स की कोई जानकारी नहीं है। बरेली पुलिस ने इस मामले को लेकर अभी तक हमसे कोई संपर्क नहीं किया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App