ताज़ा खबर
 

यूपी: घर से गाय और अन्य पशुओं के अवशेष बरामद होने के बाद तनाव, गोहत्या के केस में 3 गिरफ्तार

गिरफ्तार आरोपियों की पहचान इनाम, शाहरुख और कल्लू के तौर पर हुई है। ये उन तीन मकानों के मालिक हैं जहां से पुलिस ने रविवार को करीब 40 मवेशियों का मीट, खाल और हड्डियां बरामद किया।

Tension in Baghpatबागपत के एसपी शैलेश कुमार पांडेय ने कहा, ‘बरामद खालें पुरानी हैं। हम इस बात की जांच करेंगे कि क्या पुलिसवालों को इन गतिविधियों के बारे में जानकारी थी?’ वहीं, बागपत के चीफ वेटनरी ऑफिसर डॉक्टर रवींदर कुमार ने कहा, ‘कई सारी खालें पुरानी हैं जबकि 7 नई खालें बरामद की गई हैं।

यूपी के बागपत जिले में गोहत्या के आरोप में तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है। ये गिरफ्तारियां कोतवाली पुलिस स्टेशन के अंतर्गत आने वाले पुराना कस्बा इलाके में सोमवार को हुईं। मामला सामने आने के बाद से इलाके में तनाव का माहौल है। गिरफ्तार आरोपियों की पहचान इनाम, शाहरुख और कल्लू के तौर पर हुई है। ये उन तीन मकानों के मालिक हैं जहां से पुलिस ने रविवार को करीब 40 मवेशियों का मीट, खाल और हड्डियां बरामद किया। इनमें गाय के अवशेष भी शामिल हैं। आरोपियों पर गोहत्या और पशुओं से क्रूरता संबंधित धाराओं में केस दर्ज किया गया है। पशुओं के अवशेष को जांच के लिए लैब में भेजा गया है।

बीजेपी की युवा ईकाई भारतीय जनता युवा मोर्चा और विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ता मौके पर पहुंचे और प्रदर्शन किया। इनका आरोप था कि पुलिस की रजामंदी से पशुओं की अवैध ढंग से कटाई जारी है। सीनियर अफसरों ने पुलिस की कथित भूमिका के आरोपों की जांच का आश्वासन दिया, जिसके बाद ये प्रदर्शन खत्म हुआ। बागपत के एसपी शैलेश कुमार पांडेय ने कहा, ‘बरामद खालें पुरानी हैं। हम इस बात की जांच करेंगे कि क्या पुलिसवालों को इन गतिविधियों के बारे में जानकारी थी?’ वहीं, बागपत के चीफ वेटनरी ऑफिसर डॉक्टर रवींदर कुमार ने कहा, ‘कई सारी खालें पुरानी हैं जबकि 7 नई खालें बरामद की गई हैं। खालों और हड्डियों के सैंपल लैब भेजे गए हैं। एक घर से बछड़े का सिर भी बरामद हुआ है।’

वहीं, सर्किल ऑफिसर ओमपाल सिंह ने कहा कि पुलिस को खबर मिली थी कि पुराना कस्बा इलाके के तीन घरों में पशुओं को मारकर उनके अवशेष रखे गए हैं। इन घरों पर ताला लगा था, जिन्हें तोड़कर पुलिस दाखिल हुई। इसी बीच, भारतीय जनता युवा मोर्चा और विहिप के लोग भी मौके पर पहुंच गए। सिंह ने कहा, ‘हमें इन घरों से 40 पशुओं की खाल, हड्डियां और अवशेष बरामद हुए हैं। आरोपियों ने चमड़े को सुरक्षित तरीके से रखने के लिए केमिकल का इस्तेमाल किया था।’

सर्किल ऑफिसर ने दावा किया कि इनमें से अधिकतर खालें भैंसों की है। उनके मुताबिक, लैब रिपोर्ट से ही इस बात की पुष्टि हो पाएगी कि इनमें गाय के अवशेष हैं कि नहीं। सीओ के मुताबिक, स्थानीय लोगों ने बताया कि इन जगहों पर पशुओं की अवैध कटाई का काम पिछली सरकार में जारी था। हालांकि, बीजेपी सरकार द्वारा गैरकानूनी बूचड़खानों पर रोक लगाने के बाद यह काम रुक गया था। उनके मुताबिक, आरोपियों का कहना है कि वे पशुओं के ये अवशेष मेरठ के बूचड़खानों से लेकर आए हैं और ज्यादा कीमत पर बेचने के लिए उन्हें स्टोर करके रखा था।

बता दें कि बागपत में गोवंश के अवशेष मिलने के मामले पहले भी सामने आ चुके हैं। 19 मई को सिंहवली इलाके में सात गायों के अवशेष मिले थे। साथ ही उन्हें मारने में इस्तेमाल हथियार भी बरामद हुए थे। वहीं, 20 मई को नया गांव इलाके में दो गायों के अवशेष मिले थे। इसके अलावा, 30 मई को शहर कोतवाली क्षेत्र के कुछ ग्रामीणों ने भी एक खेत में गाय के अवशेष देखने की बात कही थी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 …जब बिजली, फ्रिज नहीं थे, तब ऐसे निकलती थी भीषण लू की काट
2 महिला की पिटाई कर जय श्री राम बोलने के लिए किया मजबूर, पुलिस अफसर के मोबाइल से फॉरवर्ड हुआ वायरल वीडियो! जांच के आदेश
3 Delhi-Noida Metro: दिल्ली और ग्रेटर नोएडा के बीच डायरेक्ट मेट्रो लिंक को मंजूरी, 14 किमी के रुट के लिए खर्च होंगे 2 हजार करोड़ रुपए
यह पढ़ा क्या?
X