ताज़ा खबर
 

जहां थी पीएम नरेंद्र मोदी की सभा, पुलिसवालों पर हुआ पथराव, एक कॉन्स्टेबल की मौत

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पीएम की जनसभा से लौट रहे भाजपा समर्थकों की गाड़ियों पर सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (एसबीएसपी) और निषाद पार्टी के कार्यकर्ताओं ने पथराव कर दिया। इसके बाद दोनों पक्षों की तरफ से पत्थरबाजी शुरू हो गई।

गाजीपुर में पुलिसकर्मियों पर पथराव के बाद क्षतिग्रस्त बस और हंगामा कर रहे लोग। (फोटो-ANI)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार (29 दिसंबर) को उत्तर प्रदेश के गाजीपुर में एक शिलान्यास कार्यक्रम में भाग लेने गए थे। खबर है कि वहां लोगों ने पुलिस वालों पर पथराव कर दिया जिसमें एक कॉन्स्टेबल की मौत हो गई है। मरने वाले कॉन्स्टेबल का नाम सुरेश वत्स है। राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कॉन्स्टेबल की मौत पर दुख जताया है और उनके आश्रितों को 40 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने का एलान किया है। इसके साथ ही योगी ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए इसकी जांच के आदेश दिए हैं। वत्स करीमुद्दीनपुर थाने में तैनात थे।

ये घटना गाजीपुर जिले के गाजीपुर कठवा मोड़ के पास की है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पीएम की जनसभा से लौट रहे भाजपा समर्थकों की गाड़ियों पर सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (एसबीएसपी) और निषाद पार्टी के कार्यकर्ताओं ने पथराव कर दिया। इसके बाद दोनों पक्षों की तरफ से पत्थरबाजी शुरू हो गई। इस दौरान पुलिस को मामले में दखल देना पड़ा। इसी क्रम में कॉन्स्टेबल सुरेश वत्स पत्थर लगने से घायल हो गए जिनकी बाद में मौत हो गई। इस घटना में और भी कई पुलिसकर्मियों को चोटें आई हैं। बता दें कि निषाद समाज के लोग आरक्षण की मांग पर घटनास्थल पर आंदोलन कर रहे थे। पुलिसवाले उन्हें समझाने की कोशिश कर रहे थे तभी पथराव शुरू हो गया।

देखें पथराव का वीडियो:


फिलहाल प्रशासन की तरफ से इस मामले पर कुछ नहीं कहा जा रहा है। इस बीच पुलिस ने निषाद पार्टी के करीब दर्जनभर कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया है। सीएम ने मृतक सिपाही की पत्नी को असाधारण पेंशन और परिवार के एक सदस्य को अनुकंपा के आधार पर सरकारी नौकरी देने की भी घोषणा की है।  बता दें कि पीएम ने आज ही वहां राजा सुहेलदेव पर डाक टिकट जारी किया था और वहां एक सरकारी अस्पताल की आधारशिला रखी थी। इस दौरान उन्होंने कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा था। उधर, इस कार्यक्रम से यूपी एनडीए के दो सहयोगी दल अपना दल और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के नेताओं ने अपने को किनारे रखा था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Kumbh Mela 2019: क्रूज से करें प्रयागराज कुंभ का सफर, जानें किराया और बाकी डिटेल्स