ताज़ा खबर
 

टॉयलेट के ल‍िए बीवी बेचने की सलाह देने वाले डीएम पर सपा नेता भड़कीं, बोलीं- आपकी सैलरी जनता के पैसे से आती है, जुबान पर काबू रखें

औरंगाबाद के डीएम तनुज शनिवार (22 जुलाई, 2017) को स्वच्छ भारत अभियान के तहत जमहोर गांव में लोगों को शौचालय निर्माण के प्रति जागरुक करने के लिए पंहुचे थे।

औरंगाबाद के डीएम तनुज शनिवार (22 जुलाई, 2017) को स्वच्छ भारत अभियान के तहत जमहोर गांव में लोगों को शौचालय निर्माण के प्रति जागरुक करने के लिए पंहुचे थे। (फोटो सोर्स एएनआई))

समाजवादी पार्टी (एसपी) ने बिहार के औरंगाबाद जिले के डीएम कंवल तनुज के उस विवादित बयान के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है, जिसमें उन्होंने शौचालय के लिए पैसे ना होने पर लोगों से कथित तौर पर पत्नी को बेचने की बात कही। सोमावार (24 जुलाई, 2017) को पार्टी के आधिकारिक बयान में कहा गया, ‘पार्टी डीएम तनुज कंवल के खिलाफ सख्त एक्शन लेने की मांग करती है।’ पार्टी ने आगे कहा कि तनुज एक ट्रेंड आईएएस अधिकारी है और उन्हें अपनी भाषा पर कंट्रोल रखना चाहिए। उनको जो तनख्वाह दी जाती है वो इन्हीं लोगों द्वारा सरकार को टैक्स देने के बाद आती है। उनकी टिप्पणी नियमों के खिलाफ है। उनके खिलाफ जरूरी कार्रवाई की जानी चाहिए। वहीं रविवार (23 जुलाई, 2017) को सपा नेता जूही सिंह ने न्यूज एजेंसी एएनआई से कहा, ‘मैं बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से अपील करती हूं कि डीएम के खिलाफ सख्त एक्शन लें।’ बता दें कि औरंगाबाद के डीएम तनुज शनिवार (22 जुलाई, 2017) को स्वच्छ भारत अभियान के तहत जमहोर गांव में लोगों को शौचालय निर्माण के प्रति जागरुक करने के लिए पंहुचे थे। घटना का एक वीडियो भी सामने आया था जिसे एएनआई ने शेयर किया था। वीडियो में डीएम तनुज स्वच्छ भारत अभियान के तहत लोगों को जागरुक करते हुए नजर आ रहे हैं। हालांकि वीडियो में तनुज ने कुछ ऐसी बातें भी कहीं जो सुर्खियों में बनी रहीं। दरअसल सार्वजनिक संबोधन के दौरान उन्होंने लोगों से कहा कि अगर आपके पास शौचालय बनवाने के लिए पैसे नहीं हैं तो पत्नी को बेच दीजिए और घर में शौचालय बनवा लीजिए। डीएम के इसी विवादित बयान का अब देशभर में राजनीतिक पार्टियों द्वारा विरोध किया जा रहा है।

खबर के अनुसार जिस वक्त तनुज स्थानीय लोगों को संबोधित कर रहे थे तब कुछ लोगों ने उनसे शौचालय बनवाने के लिए पैसे ना होने की बात कही। इस पर नाराज डीएम ने कहा कि लोग एडवांस की बात करते हैं। मगर इंदिरा आवास योजना के तहत दिए गए रुपए से उन्होंने बेटी की शादी कर ली और दूसरे कामों में पैसा खर्च कर दिया। इस दौरान उन्होंने आगे कहा कि यहां कौन गरीब है जो कहेगा कि उसकी बीवी की इज्जत बारह हजार रुपए से सस्ती है। कोई ऐसा नहीं होगा जो कहेगा कि उसकी बीवी की इज्जत ले लो और बारह हजार दे दो। अगर आपकी यही सोच है तो बेच दीजिए अपने घर की इज्जत और सरकार से जाकर कह दीजिए कि आप नहीं बनवा सकते शौचालय।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App