ताज़ा खबर
 

समाजवादी सेक्‍युलर मोर्चा की होर्डिंग से नदारद थे मुलायम, बवाल हुआ तो फिर से छपवाईं

पार्टी की नींव रखने वाले शिवपाल ने कहा कि हम चाहते हैं कि समाजवादी पार्टी कमजोर ना रहे, लेकिन सपा में काफी समय से लोगों की उपेक्षा हो रही है। उन्हें काम नहीं करने दिया जा रहा है, उन्हें कोई पूछ नहीं रहा हैं। इसलिए मैंने समाजवादी सेक्युलर मोर्चा बनाकर उन लोगों को काम दिया है।

Author September 29, 2018 5:05 PM
सपा के संरक्षक मुलायम सिंह यादव। (एक्सप्रेस फोटोः विशाल श्रीवास्तव)

अपना अलग मोर्चा बनाने के ऐलान के लम्बे समय बाद आखिरकार बीते बुधवार को पूर्व मुख्यमंत्री व समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल सिंह यादव ने समाजवादी सेक्युलर मोर्चा का गठन कर दिया है। उन्होंने कहा है कि सपा में जो भी उपेक्षित महसूस कर रहे हैं वह समाजवादी सेक्युलर मोर्चा में शामिल हो सकते हैं। सपा विधायक शिवपाल यादव ने मोर्चा के गठन की घोषणा के बाद कहा कि समाजवादी पार्टी लम्बे संघर्ष के बाद बनी है। इसमें लाखों लोगों का खून पसीना लगा है। जब नेता जी (मुलायम सिंह) के नेतृत्व में पार्टी खड़ी हुई, जिसमें कई बड़े-बड़े नेता रहे हैं।

हालांकि पार्टी अपने गठन के बाद ही विवादों में आ गई। दरअसल जब समाजवादी सेक्युलर मोर्चा के नेताओं का होर्डिंग और तस्वीरें सामने आईं तो उसमें मुलायम सिंह यादव की तस्वीर नहीं होने से पार्टी के सदस्य खासे नाराज हो गए। हालांकि गुरुवार रात को इस गलती को सुधारा गया और मुलायम सिंह की तस्वीर लगाई गई। वहीं SSM के सदस्य ने उन सभी बातों को खारिज कर दिया जिसमें कहा गया कि मुलायम से बैर के चलते उन्हें होर्डिंग में जगह नहीं दी गई।

वहीं पार्टी की नींव रखने वाले शिवपाल ने कहा कि हम चाहते हैं कि समाजवादी पार्टी कमजोर ना रहे, लेकिन सपा में काफी समय से लोगों की उपेक्षा हो रही है। उन्हें काम नहीं करने दिया जा रहा है, उन्हें कोई पूछ नहीं रहा हैं। इसलिए मैंने समाजवादी सेक्युलर मोर्चा बनाकर उन लोगों को काम दिया है। वह लोगों से बात करें, जिले में जाएं और संगठन खड़ा करें। शिवपाल सिंह ने भाजपा में जाने की बात को अफवाह बताया और कहा कि बीजेपी में जाने की अफवाह गलत है। वह पार्टी में नेताजी (मुलायम सिंह) का सम्मान ना होने से आहत हैं।

2017 में ऐलान के बाद मोर्चा का गठन करने के सवाल पर शिवपाल ने कहा, “मैंने दो साल तक इसलिए इंतजार किया, क्योंकि मैं चाहता था कि पूरी समाजवादी पार्टी एक रहे। लेकिन जब नहीं पूछा और बैठक में नहीं बुलाया और ना ही काम दिया जा रहा हैं तो मैंने मोर्चे का गठन किया है।” क्या सपा संरक्षक भी आप के साथ होंगे के सवाल पर शिवपाल ने बात को घुमाया और कहा कि हमारा प्रयास होगा कि जितने भी लोग हैं, जिनका सपा में सम्मान नहीं हो रहा हो वे साथ आएं। उन्हें कोई पूछ नहीं रहा हो वह सब लोग हमारे साथ आएं। यही नहीं हम जितने भी छोटे-छोटे दल हैं सब को इकट्ठा करेंगे। 2019 लोकसभा चुनाव की रणनीति के सवाल पर उन्होंने समाजवादी सेक्युलर मोर्चा के यूपी में नया सियासी विकल्प होने की बात से इंकार नहीं किया। (जनसत्ता ऑनलाइन इनपुट सहित)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App