ताज़ा खबर
 

वैलेंटाइन डे पर दक्षिणपंथी संगठन का ऑफर- मुस्लिम लड़की से करो शादी, देंगे 51 हजार रुपये, हिफाजत भी करेंगे

हिंदू कल्याण महासभा की आगरा ईकाई ने ऐलान किया है कि अगर कोई हिंदू शख्स 14 फरवरी को किसी मुस्लिम युवती से शादी करता है तो वे उसे 'पैसे और प्रोटेक्शन' दोनों देंगे।

Author February 5, 2019 8:23 AM
तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है। (Image Source: pixabay)

वैलेंटाइंस डे नजदीक आते ही दक्षिणपंथी संगठनों की ओर से धमकी देने की खबरें आती ही रहती हैं। ये संगठन इस खास दिन युवा कपल्स को परेशान करने और उनसे मारपीट करने की गतिविधियों में शामिल रहते हैं। हालांकि, इस बार एक ऐसे ही संगठन ने युवाओं को वैलेंटाइंस डे के मौके पर एक अजीबोगरीब ऑफर दिया है। हिंदू कल्याण महासभा की आगरा ईकाई ने ऐलान किया है कि अगर कोई हिंदू शख्स 14 फरवरी को किसी मुस्लिम युवती से शादी करता है तो वे उसे ‘पैसे और प्रोटेक्शन’ दोनों देंगे।

द टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक, संगठन के संयोजक संजय जाट ने कहा, ‘वैलेंटाइंस डे के दिन हिंदू लड़कियों की हिफाजत करने के लिए अक्सर दक्षिणपंथी संगठनों की आलोचना की जाती है। हालांकि, इस साल हमने इस मौके का स्वागत करने का फैसला किया है। हम ऐसा करने वाले युगल को सुरक्षा के साथ 51 हजार रुपये की आर्थिक मदद भी देंगे।’

जाट ने आगे कहा, ‘हम किसी तरह की हिंसा में शामिल नहीं होंगे। देखा जाए तो यह हमारी हिंदू लड़कियों को दूसरे समुदाय के उन लोगों से बचाने के खिलाफ उठाया गया कदम है, जो नाम बदलकर खुद को हिंदू पुरुषों की तरह पेश करते हैं और फर्जी कलावा भी पहनते हैं।’ हिंदू कल्याण महासभा ने यह भी ऐलान किया है कि संगठन ऐसे कपल्स की शादी भी कराएगा।

हिंदू कल्याण महासभा पूर्व में वैलेंटाइंस डे का पुरजोर विरोधी रहा है। पिछले साल ही मीडिया में आई खबरों के मुताबिक, इस संगठन ने वैलेंटाइंस डे के दिन ‘लट्ठ पूजन’ किया था। साथ ही इस आयोजन में शामिल होने वाले युवाओं को सबक सिखाने की धमकी भी दी थी। संगठन ने धमकी दी थी कि लड़कियों को जबरन गुलाब के फूल देने वालों को लट्ठ से पीटा जाएगा और उनसे शिव की पूजा कराई जाएगी।

वहीं, पिछले साल ही यूपी के मुजफ्फरनगर में शिवसेना ने वैलेंटाइन डे के विरोध में लट्ठ पूजन किया था। संगठन ने धमकी दी थी कि अगर कोई यह त्योहार मनाता पकड़ा गया तो उनकी लाठियों से खातिरदारी की जाएगी। संगठन ने इस त्योहार को भारतीय संस्कृति के खिलाफ बताया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App