ताज़ा खबर
 

राम मंदिर मामला: यूपी सीएम योगी आदित्‍यनाथ से मिले श्री श्री रविशंकर

13 नवंबर को श्री श्री रविशंकर ने कहा था वह अपनी ओर से मंदिर विवाद में मध्यस्थता करने 16 नवंबर को अयोध्या जाएंगे और सभी पक्षकारों से मिलेंगे।

आर्ट ऑफ लिविंग के प्रमुख श्री श्री रवि शंकर। (File Photo)

अयोध्या की बुधवार को होने वाली अपनी यात्रा से पहले आर्ट आॅफ लिविंग के संस्थापक श्री श्री रविशंकर ने मंगलवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की। सूत्रों के मुताबिक, श्री श्री रविशंकर और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बीच यह एक शिष्टाचार मुलाकात थी। उत्तर प्रदेश सरकार के एक अधिकारी ने बताया, ‘‘यह दोनों के बीच एक शिष्टाचार मुलाकात थी। बैठक ठीक ठाक रही और करीब 15 से 20 मिनट तक चली।’’ उन्होंने बताया कि जहां तक अयोध्या का मामला है, मुख्यमंत्री जी का रूख पूरी तरह से साफ है। राज्य सरकार इस मामले में पक्षकार नहीं है। सरकार अदालत के हर फैसले का सम्मान करेगी।

गौरतलब है कि 13 नवंबर को श्री श्री रविशंकर ने कहा था वह अपनी ओर से मंदिर विवाद में मध्यस्थता करने 16 नवंबर को अयोध्या जाएंगे और सभी पक्षकारों से मिलेंगे। उन्होंने कहा था, ‘‘मेरा इस मुद्दे पर कोई एजेंडा नहीं है और अपनी अयोध्या यात्रा के दौरान मैं सभी की बातें सुनूंगा।’’ उल्लेखनीय है कि सांसद असुद्दीन ओवैसी ने अयोध्या विवाद हल करने के लिए आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर की कोशिशों को सोमवार को महज एक मजाक करार दिया था और कहा कि उन्हें इस विवाद को सुलझाने की कोई अथॉरिटी नहीं है। श्री श्री को जोकर करार देते हुए ओवैसी ने कहा था कि वे कुछ भी कर लें उन्हें उनकी इस कोशिश के लिए नोबेल पुरस्कार नहीं मिलने वाला है।

HOT DEALS
  • BRANDSDADDY BD MAGIC Plus 16 GB (Black)
    ₹ 16199 MRP ₹ 16999 -5%
    ₹1620 Cashback
  • Sony Xperia XZs G8232 64 GB (Warm Silver)
    ₹ 34999 MRP ₹ 51990 -33%
    ₹3500 Cashback

ओवैसी के मुताबिक, कुछ ऐसे लोग जो मुगल लिखना तक नहीं जानते मुगलों का वंशज होने का दावा करते हैं, और अयोध्या विवाद पर अपना पक्ष रखते हैं। ओवैसी ने कहा कि ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड इस मामले में पहले ही कह चुका है कि उसे किसी तरह का ऑफर स्वीकार नहीं है। इसलिए इस मुद्दे पर रविशंकर को पतंगबाजी नहीं करनी चाहिए। श्री श्री की खिल्ली उड़ाते हुए ओवैसी ने कहा था, “पहले एनजीटी ने जो जुर्माना उनपर लगाया है वो उसे चुकाएं फिर शांति की बात करें।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App