ताज़ा खबर
 

पुलवामा हमला: शहीद के परिजनों से गले लग बोलीं प्रियंका गांधी- मेरे पिता के साथ भी ऐसा ही हुआ था

Pulwama Terror Attack: पुलवामा आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे। इस घटना से पूरे देश में गम और गुस्से का माहौल है। इन 40 शहीदों में से 12 उत्तर प्रदेश के निवासी थे। उनमें से दो शामली के रहने वाले थे।

पुलवामा आतंकी हमले में शहीद के परिजनों से गले लग ढांढ़स बंधाती कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी। (एक्सप्रेस फोटो)

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी महासचिव प्रियंका गांधी ने पुलवामा हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ जवान अमित कुमार कोरी को उनके गांव पहुंचकर श्रद्धांजलि दी और उनके परिजनों के साथ दुख साझा किया। शोक संतप्त परिजनों को ढाढ़स बंधाते हुए प्रियंका गांधी ने कहा कि 28 साल पहले उनके पिता के साथ भी ऐसा ही हुआ था, जब आत्मघाती हमले में उनकी हत्या कर दी गई थी। प्रियंका ने शहीद की विधवा को गले लगाकर हिम्मत बंधाई और उनका फोन नंबर लिया। प्रियंका ने कहा कि दुख की घड़ी में वो इस परिवार के साथ हैं। गांधी भाई-बहन के साथ पश्चिमी यूपी के प्रभारी महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया और राज्य कांग्रेस के अध्यक्ष राज बब्बर भी साथ थे। ये सभी लोग सड़क मार्ग से सीधे शामली पहुंचे, जहां रघुनाथ मंदिर में शहीद अमित कुमार कोरी के लिए एक प्रार्थना सभा आयोजित की गई थी। उस सभा में यूपी सरकार के गन्ना मंत्री सुरेश राणा भी मौजूद थे। राहुल-प्रियंका के इस दौरे को काफी गुप्त रखा गया था।

राहुल गांधी ने वहां मौजूद लोगों के साथ ‘अमित कोरी अमर रहें’ और ‘भारत माता की जय’ के नारे भी लगाए। राहुल ने कहा कि उनकी बहन ने बताया कि उनके पिता के साथ भी ऐसे ही हुआ था। उन्होंने शहीद के परिजनों को हिम्मत बंधाई और हरसंभव मदद का भरोसा दिया। अमित कोरी को श्रद्धांजलि देने के बाद कांग्रेस नेताओं का जत्था दूसरे शहीद जवान प्रदीप कुमार के घर पहुंचा। प्रदीप भी सीआरपीएफ जवानों की उस टुकड़ी में शामिल थे जो आत्मघाती विस्फोट में 14 फरवरी को पुलवामा में शहीद हुए थे। बता दें कि इस आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे। इस घटना से पूरे देश में गम और गुस्से का माहौल है। इन 40 शहीदों में से 12 उत्तर प्रदेश के निवासी थे। उनमें से दो शामली के रहने वाले थे।

राहुल गांधी ने शहीद के पिता से कहा कि आपके लाल पर पूरे देश को गर्व है, जिन्होंने देश के खातिर अपने प्राणों का आहूति दे दी। राहुल ने कहा कि पूरा देश उन्हें सलाम कर रहा है और उनकी शहादत पर गौरव महसूस कर रहा है। शामली जाने के दौरान राहुल और प्रियंका गांधी का दस्ता कैराना के शिव शक्ति ढाबा पर रुका और जहां सभी ने चाय पी। यह दौरा अति गोपनीय रखा गया था।

Next Stories
1 कभी चंबल के डकैत रहे दद्दा मलखान का ऐलान- इजाजत दे सरकार, पाकिस्तान को चटा दूंगा धूल
ये पढ़ा क्या?
X