ताज़ा खबर
 

शायर गौहर रजा को “देशद्रोही”, “अफजल गैंग का” बताने पर Zee News पर जुर्माना, माफी चलाने का भी ऑर्डर

'अफजल प्रेमी गैंग का मुशायरा' नाम से ऑन एयर किये गये इस प्रोग्राम में जी न्यूज ने गौहर रजा को संसद पर हमले के दोषी अफजल गुरु का समर्थक बताया था।

Zee News , Zee News fined, Zee News fined by News Broadcasting Standards Authority, NBSA, Gauhar Raza, scientist Gauhar Raza, Afzal Premi Gang, Afzal Premi Gang ka Mushaira, Afzal Guru, Sudhir Chaudhary, hindi news, jansattaवैज्ञानिक गौहर रजा (फोटो सोर्स- सोशल मीडिया)

हिन्दी न्यूज चैनल जी न्यूज पर न्यूज ब्रॉडकास्टिंग स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी  (NBSA) ने एक लाख रुपये का जर्माना लगाया है और माफी मांगने को कहा है। NBSA जी न्यूज पर ये आर्थिक दंड और माफीनामा मार्च 2016 में एक न्यूज रिपोर्ट को ऑन एयर करने के लिए लगाया गया है। जी न्यूज ने एक न्यूज रिपोर्ट में वैज्ञानिक और शायर गौहर रजा को ‘देशद्रोही’ और संसद पर हमले के दोषी आतंकी अफजल गुरु का समर्थक बताया था। NBSA न्यूज ब्रॉडकास्टर्स एसोसियेशन की स्व नियमन शिकायत समाधान ईकाई है। न्यूज ब्रॉडकास्टर्स एसोसियेशन निजी समाचार चैनलों का प्रतिनिधित्व करने वाली एक संस्था है। ‘अफजल प्रेमी गैंग का मुशायरा’ नाम से ऑन एयर किये गये इस प्रोग्राम में जी न्यूज ने गौहर रजा को संसद पर हमले के दोषी अफजल गुरु का समर्थक बताया था। बता दें कि इस कार्यक्रम में गौहर रजा की शायरी को भी दिखाया गया था इसके साथ साथ ही इस प्रोग्राम में जेएनयू में कथित रुप से नारा लगाये गये देश विरोधी नारों का फुटेज भी चलाया गया था।

NBSA ने जी न्यूज मैनेजमेंट को 8 सितंबर को इस बावत माफीनामा भी चलाने को कहा है। साथ ही इस प्रोग्राम से संबंधित वीडियो को भी जी न्यूज की वेबसाइट से हटाने को कहा गया है। इस बारे में दो शिकायतों पर कार्रवाई करते हुए जस्टिस आर वी रविन्द्रन, जो कि NBSA के चेयरमैन भी हैं, ने कहा कि जी न्यूज ने निष्पक्षता, तटस्थता, सच्चाई के संस्था के दिशा निर्देशों का पालन नहीं किया है। इस बारे में एक शिकायत तो खुद गौहर रजा ने दाखिल की थी, जबकि दूसरी शिकायत अभिनेत्री शर्मिला टैगौर, गायिका शुभा मुद्गल, कवि अशोक वाजपेयी और लेखिका सईदा हमीद ने दायर की थी।

NBSA के आदेश में कहा गया है कि चैनल ने प्रोफेसर गौहर रजा को अपनी सफाई रखने का कोई मौका नहीं दिया, जबकि प्रोग्राम में उनकी शायरी दिखाई जा रही थी। इधर जी न्यूज के संपादक सुधीर चौधरी ने कहा है कि उनकी कंपनी ने NBSA के दिशा निर्देशों का कोई उल्लंघन नहीं किया है। सुधीर चौधरी ने कहा कि उनकी कंपनी इस आदेश पर कानूनी विकल्प तलाश रहे हैं और उनकी कंपनी इसे आदेश को चुनौती भी दे सकती है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 बहुराष्ट्रीय कंपनियों और नामी स्कूलों में नौकरी दिलाने के नाम पर करते थे ठगी, आठ गिरफ्तार
2 शौहर ने दिया तीन तलाक, सुप्रीम कोर्ट के बैन के बाद बीवी पहुंची थाने
3 केंद्र और उप्र में भाजपा, फिर क्यों नहीं मिल रहा घर
ये पढ़ा क्या...
X