ताज़ा खबर
 

नोएडा और गाजियाबाद में रोजगार की असीम संभावनाएं : स्वामी प्रसाद मौर्य

उत्तर प्रदेश के 70 लाख युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराने पर तेजी से काम किया जा रहा है।

Author नोएडा | June 12, 2017 2:28 AM
स्वामी प्रसाद मौर्य

उत्तर प्रदेश के 70 लाख युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराने पर तेजी से काम किया जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, दोनों की युवाओं को रोजगार मुहैया कराने की प्राथमिकता है। इस लक्ष्य को हासिल करने में नोएडा और गाजियाबाद अहम हैं। चूंकि प्रदेश के करीब 60 फीसद उद्यम यहीं स्थापित हैं। ऐसे में यहां पर युवाओं के रोजगार की अपार संभावनाएं हैं। इस मुद्दे पर उद्यमियों और श्रम बंधुओं से बातचीत हो चुकी है। इसके बाद अब व्यापारियों के बीच आया हूं क्योंकि व्यापारी हमारे समाज की रीड़ की हड्डी है। व्यापारी वर्ग को मजबूत किए बगैर विकास का रास्ता तैयार नहीं किया जा सकता है। ये बातें रविवार को उत्तर प्रदेश के श्रम एवं सेवायोजन मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहीं।  उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल के व्यापारी सम्मान समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में उन्होंने कहा कि पश्चिमांचल में नोएडा के अलावा गाजियाबाद, बुलंदशहर, खुर्जा, हापुड़, मेरठ, मथुरा, आगरा, सहारनपुर, मुजफ्फरनगर बड़ी औद्योगिक पट्टी है। यहां के उद्यमियों और व्यापारियों को श्रम से जुड़े मामलों के लिए कानपुर जाना पड़ता है। उनकी भाग-दौड़, कवायद और समय को बचाने के लिए नोएडा में निदेशक कारखाना और अपर आयुक्त श्रम का कैंप कार्यालय खोला जा सकता है। इसके लिए मुख्यमंत्री से बातचीत की जाएगी।

पश्चिमांचल में फैली अशांति के लिए मौर्य ने पूर्व सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि पूर्व सरकार के संरक्षण में तैयार हुए गुंडे, अराजक तत्त्व और अपराधी प्रवृत्ति के लोग कानून-व्यवस्था को हाथ में लेने की कोशिश कर रहे हैं। उनके खिलाफ उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार हर हाल में कार्रवाई करेगी। पिछले दिनों में ऐसे काफी वांछितों को सलाखों के पीछे डाला गया है। इधर-उधर छुप रहे या फरार चल रहे उपद्रवियों को जल्द जेल की हवा खिलाई जाएगी। उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में कानून राज स्थापित हो चुका है। कानून तोड़ने वालों को हर हाल में कार्रवाई झेलनी होगी। इससे पूर्व सेक्टर-38 स्थित विद्युत गेस्ट हाउस में श्रम विभाग के अधिकारियों और श्रम बंधुओं के साथ हुई बैठक में मौर्य ने रोजगार और रोजगार उन्मुख पाठ्यक्रमों को नितांत जरूरी बताते हुए उद्यमी कौशल विकास पर विशेष ध्यान देने की जरूरत बताई। नोएडा में उद्यमी कौशल विकाल को दीर्घकालिक रोजगार के लिए आवश्यक बताया। कुशल श्रमिकों की कमी से न केवल उत्पादन में दिक्कतें आती हैं बल्कि कौशल विकास की मदद से उत्पादन की गुणवत्ता भी सुधारी जा सकती है। साथ ही श्रमिकों को नए एवं अच्छे रोजगार के अवसर भी उपलब्ध होंगे।

मंत्री से इंडियन इंडस्ट्रीज एसोसिएशन (आइआइए) के एक प्रतिनिधिमंडल ने भी मुलाकात की। आइआइए नोएडा चैप्टर के अध्यक्ष राजीव बंसल ने पारदर्शी व्यवस्था के लिए आॅनलाइन प्रणाली को मजबूत करने की जरूरत बताई। इससे उद्यमियों की ज्यादातर समस्याओं का तय समय में स्वत: ही निदान होने का दावा किया। उद्यमियों ने औद्योगिक सुरक्षा और कानून- व्यवस्था को लेकर भी विस्तार से चर्चा की।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App