ताज़ा खबर
 

नोएडा: प्रदर्शन की वजह से ट्रैफिक जाम में फंसी एम्बुलेंस, 7 साल के बच्चे की मौत

नोएडा में एक धरना-प्रदर्शन की वजह से एक 7 साल के बच्चे की मौत हो गई।

Author Updated: May 21, 2017 1:07 PM
ट्रैफिक जाम की वजह से रास्ते में फंसी एम्बुलेंस। (Photo Source: ANI)

नोएडा में एक धरना-प्रदर्शन की वजह से एक 7 साल के बच्चे की मौत हो गई। दरअसल नोएडा और ग्रेटर नोएडा को जोड़ने वाले एक्सप्रेसवे पर प्रदर्शन के चलते वहां पर लगभग 10 किलोमीटर लंबा जाम लग गया जिसमें एक एम्बुलेंस फंस गई। एम्बुलेंस के ट्रैफिक में फंस जाने के चलते बच्चे का समय पर इलाज नहीं हो सका और उसने एम्बुलेंस में ही दम तोड़ दिया। समाचार एजंसी एएनआई के मुताबिक घटना बीते शनिवार (20 मई) लगभग शाम 4 बजे हुई।

खबरों के मुताबिक खरीदार पोजेशन नहीं मिलने के चलते बिल्डर ग्रुप के साथ बैठक करने गए थे लेकिन बताया जा रहा है कि बिल्डर्स की तरफ से कोई बातचीत करने नहीं पहुंचा। बिल्डर के खिलाफ दो एफआईआर भी दर्ज हो चुकी हैं। इसी वजह से गुस्साए खरीददारों ने बिल्डर के खिलाफ धरना-प्रदर्शन शुरू कर दिया। गुस्साए खरीदारों ने पहले सर्विस लेन और फिर एक्सप्रेसवे को जाम कर वहां पर प्रदर्शन शुरू कर दिया जिसकी वजह से वहां पर भारी ट्रैफिक जमा हो गया। एक्सप्रेसवे पर जाम की वजह से ग्रेटर नोएडा-नोएडा की तरफ जाने वाले रास्ते पर कई किलोमीटर लंबा जाम लग गया। इसी जाम में फंसी ऐंबुलेंस में 7 साल के बच्चे की मृत्यु हो गई। रिपोर्ट्स के मुताबिक, बच्चे को उसके परिजन आगरा से दिल्ली लेकर जा रहे थे।

वहीं इस मामले में बच्चे के माता-पिता ने कोई शिकायत दर्ज नहीं कराई है। बता दें इससे पहले भी जेपी बिल्डर्स के खिलाफ, ग्राहक घर नहीं मिलने के चलते कई बार प्रदर्शन कर चुके हैं।वहीं बीते अप्रेल महीने में जेपी बिल्डर्स के 4 डायरेक्टरों के खिलाफ, समय पर मकान की डिलिवरी नहीं करने के चलते उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई थी। बिल्डर्स के खिलाफ आईपीसी की धारा 406 और 420 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था। वहीं बीते साल सितंबर महीने में ग्रेटर नोएडा में फ्लैट्स बना रहे करीब 95 बिल्डर्स को ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी ने डिफॉल्टर्स की लिस्ट में डाल दिया था। इनमें आम्रपाली, यूनिटेक और एटीएस बिल्डर्स का नाम भी शामिल किया गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 मोबाइल से भेजा तलाक, मामला दर्ज होने पर भी नहीं हुई गिरफ्तारी
2 तीन तलाक: जुबान से निकले तीन शब्दों को अपनी जिंदगी बर्बाद करने की इजाजत नहीं दूंगी
3 परिवार को मारने की धमकी देकर नाबालिग के साथ एक महीने तक होता रहा बलात्कार
ये पढ़ा क्‍या!
X