ताज़ा खबर
 

लोकसभा चुनाव 2019: रैली में भाषण दे रहे थे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पब्लिक बीच में ही उठ कर जाने लगी

एक शख्स ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण के लिए बहुत इंतजार करना पड़ा। बैठने की व्यवस्था भी अच्छी नहीं थी।

PM modiप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ भाजपा अध्यक्ष अमित शाह। (Express File Photo by Anil Sharma)

उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा में शनिवार (9 मार्च, 2019) के दिन हजारों की तादाद में लोग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सुनने के लिए पहुंचे। हालांकि पीएम का भाषण थोड़ा लंबा चला तो लोग धीरे-धीरे रैली स्थल से जाने लगे। आखिर में मोदी का भाषण जब पूरा हुआ तब बड़ी तादाद में लोग जा चुके थे। एक समाचार पत्र ने रैली स्थल पर मौजूद लोगों के हवाले से बताया कि पीएम दोपहर 12 बजे आने वाले थे, मगर वो करीब एक बजे रैली स्थल पर पहुंचे। समाचार पत्र में छपी खबर के मुताबिक शख्स ने बताया, ‘बहुत इंतजार करना पड़ा। बैठने की व्यवस्था भी अच्छी नहीं थी।’ खबर के मुताबिक बहुत से लोगों में चर्चा यह भी चल रही थी कि भीड़ में काफी लोग ऐसे भी पहुंचे जिन्हें कुछ लालच देकर रैली स्थल पर लाया गया था। ऐसे लोगों का समय भी निर्धारित था। यानी वो रैली स्थल पर कितनी देर रुकेंगे यह पहले से तय था। समय पूरा हुआ तो लोग रैली स्थल से चले गए।

बता दें कि रैली को संबोधित करते हुए नरेंद्र मोदी ने पाकिस्तान के बालाकोट में भारत के हवाई हमले का सबूत मांगने वालों पर खूब निशान साधा। उन्होंने मुंबई हमले के बाद आतंकवादी हमले की घटनाओं से निपटने के तरीके को लेकर पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार की आलोचना की। पीएम ने कहा कि वोट हासिल करने के लिए भ्रष्ट उनका विरोध कर रहे हैं और उन्हें कोस रहे हैं।

2014 में प्रधानमंत्री बनने वाले मोदी ने कहा कि भारत आज ‘नई रीति, नई नीति’ पर काम करता है। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि उरी (जम्मू कश्मीर) में 2016 में आतंकवादी हमले के बाद देश ने पहली बार ‘‘आतंकवादियों को र्सिजकल स्ट्राइक से उस भाषा में सबक सिखाया जो वे समझते हैं।’’ उन्होंने वहां बड़ी संख्या में मौजूद लोगों से सवाल किया, ‘‘क्या आपके लिए ऐसी सरकार ठीक है जो कुछ ना करे? एक ऐसा चौकीदार (प्रधानमंत्री की ओर इशारा करते हुए) जो सोता हो?’’

मोदी ने कहा, ‘‘उरी के बाद सबूत मांगे गए। हमारे सैनिकों ने कुछ ऐसा किया जो पहले कभी नहीं हुआ। हमारे सैनिकों ने आतंकवादियों को उनके घर में मारा। आतंकवादी और उनके सरपरस्तों को ऐसी कार्रवाई की उम्मीद नहीं थी। उन्होंने सोचा कि यदि भारत ने एक बार र्सिजकल स्ट्राइक की तो वे दोबारा उसी तरह का कुछ करेंगे। इसलिए उन्होंने सीमा पर सैनिक तैनात किये थे, लेकिन हम इस बार हवाई मार्ग से गए।’’ (एजेंसी इनपुट)

Next Stories
1 RWA के जिम्मे सफाई व्यवस्था
2 बेरोजगारी से था परेशान, नोएडा में बिहार के युवक ने कर लिया सुसाइड
3 नागराज 25 महीने से कर रहे साइकिल यात्रा
आज का राशिफल
X