ताज़ा खबर
 

म्यूचुअल फंड के नाम पर ठगी करने वाले दो आरोपियों को किया गिरफ्तार

म्यूचअल फंड पॉलिसी पर आकर्षक लाभ देने का झांसा कर ठगी करने वाले गिरोह के दो बदमाशों को साइबर सेल ने सर्विलांस के जरिए गिरफ्तार किया है।

Author नोएडा | September 23, 2016 1:34 AM

म्यूचअल फंड पॉलिसी पर आकर्षक लाभ देने का झांसा कर ठगी करने वाले गिरोह के दो बदमाशों को साइबर सेल ने सर्विलांस के जरिए गिरफ्तार किया है। दोनों आरोपी सेक्टर-44 के छलेरा गांव से ठगी का कारोबार चला रहे थे। उनके पास से 14 लाख रुपए बरामद हुए हैं। पूछताछ में आरोपियों ने सैकड़ों लोगों से ठगी करना कबूल किया है। पुलिस बैंक खातों की जांच के अलावा अन्य साथियों के बारे में पूछताछ कर रही है। मिली जानकारी के मुताबिक, सेक्टर-12 में रहने वाले जयवीर सिंह के पास कुछ दिनों पहले एक फोन आया था। फोन करने वाले ने खुद को आइसीआइसीआइ प्रुडेंशियल म्यूचअल फंड का अधिकारी बताते हुए कहा कि आपकी पॉलिसी बहुत अच्छी चल रही है। जिसके कारण लकी ड्रॉ में चयन हुआ है। चयन होने की वजह से अच्छा बोनस और ज्यादा रिटर्न मिलेगा।

20 हजार रुपए आइसीआइसीआइ बैंक में जमा कराने के बाद आइडी प्रूफ समेत अन्य कागजात पूरे करने की जानकारी दी। 20 हजार रुपए जमा कराने के बाद सुनील भाटिया नाम के व्यक्ति ने जयवीर सिंह को फोन कर रकम बढ़कर 23 लाख रुपए होने की जानकारी दी। उसके कुछ दिनों बाद कुलदीप सिंह नाम के व्यक्ति ने आरबीआइ नीति के तहत बढ़े हुए सर्विस टैक्स और अफसरों को रिश्वत देने के नाम पर 1.40 लाख रुपए बताए खाते में जमा कराने को कहा। जयवीर सिंह के 1.40 लाख रुपए जमा कराने से इनकार करने के बाद फिर फोन आया कि चेक तैयार हो गया है। जब रकम मिल जाएगी, तब चेक उनके खाते में भेज दिया जाएगा। जयवीर के रकम जमा कराने के बाद आए नंबरों पर संपर्क करने की कोशिश की लेकिन वे नंबर ही नहीं उठे।
साइबर क्राइम सेल ने जयवीर सिंह की शिकायत के आधार पर मोबाइल नंबरों की लोकेशन ट्रेस कर थाना सेक्टर- 24 पुलिस के साथ मिलकर छलेरा में छापा डाला। जहां से किराए के कमरे में रहकर ठगी का गिरोह चला रहे मुस्तफा हुसैन और राहुल कुशवाह को गिरफ्तार किया। मौके से 14 लाख रुपए भी बरामद किए गए हैं। पुलिस के मुताबिक, ठगी करने वालों को बैंक और म्यूचुअल फंड प्रणाली की पूरी जानकारी थी। यह तक पता था कि रकम किस तरह बढ़ती है और किस तरह से फंड से रकम निकाली जा सकती है। फोन करने से पहले पीड़ितों का पूरा ब्योरा अपने पास रखते थे। पुलिस ने बैंक और म्युचअल फंड विभाग के लोगों की संलिप्तता की आशंका जताई है। इसे लेकर दोनों गिरफ्तार युवकों से पूछताछ की जा रही है। मुस्तफा मूल रूप से कानपुर और राहुल इलाहाबाद का रहने वाला है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App